जब पार्टी के बाद सलीम खान संग 12 बजते ही जमती थी राज कपूर की महफिल, लेखक ने सुनाया लेजेंड एक्टर का किस्सा

राज कपूर की पार्टी में एंट्री पाने के लिए इंडस्ट्री के लोग मन में ख्वाहिश रखते थे। वहीं सलीम खान को राज कपूर खुद अपनी पार्टी में फोन कर के बुलाया करते थे।

Raj Kapoor, सलीम खान, राज कपूर, Salim Khan, लेजेंड राज कपूर (फोटो सोर्स- इंडियन एक्सप्रेस आरकाइव)

राज कपूर बॉलीवुड इंडस्ट्री में अपनी फिल्म मेकिंग के अलावा अपनी पार्टीस के लिए भी मशहूर थे। कहा जाता है कि राजकपूर ने ही इंडस्ट्री में पार्टी कॉन्सेप्ट को शुरू किया था। राज कपूर की पार्टी में एंट्री पाने के लिए इंडस्ट्री के लोग मन में ख्वाहिश रखते थे। वहीं सलीम खान को राज कपूर खुद अपनी पार्टी में फोन कर के बुलाया करते थे।

इस बारे में सलीम खान ने खुद जिक्र किया था। राज कपूर के किस्से सुनाते हुए सलीम खान ने बताया था- ‘बहुत कम लोग जानते हैं, हमारी मुलाकात होती थी रात के 12 बजे के बाद। राज कपूर जब भी कोई पार्टी अटेंड करते थे, खास कर अपनी खुद की पार्टी में, तो वह खुद फोन करके मुझे बुलाते थे।’

सलीम खान ने बताया- ‘मैं जब पार्टी में जाता था तो वो मुझे इधर-उधर घूमते हुए देखते थे। मैं औरों से मिल-जुल रहा होता था। वो मुझे अपने पास बुलवाते थे किसी को भेज कर और कहते थे- ”जाना मत, तुम रहना, बाकी सब चले जाएंगे।” तो सब चले जाते थे और मैं रहता था। फिर उनके पास जाकर बैठ जाता था। तब वो अपनी बातें सुनाते थे।’

सलीम खान ने आगे बताया था- ‘राज कपूर साहब बहुत सारी जुबान बोल लेते थे। उन्हें गुजराती, मराठी, बंगाली, पंजाबी, अंग्रेजी भी आती थी। सारे म्यूजिकल इंस्ट्रूमेंट्स वो बजा लेते थे-ढोलक, तबला, हारमोनियम, वॉयलेन उन्हें सब आता था। उन्हें गाना गाना भी आता था। जो उनके गाने रिकॉर्ड होने वाले थे, मैंने पहले उनकी मुंह से सुने थे।’

सलीम खान ने आगे बताया कि सब राज कपूर के पैर छुआ करते थे। उस वक्त वह उनके पैर नहीं छूते थे। इस किस्से को बताते हुए सलीम खान ने कहा था- ‘एक फिल्म थी जिसमें मैं काम कर रहा था ‘शेरशाह सूरी, तो तब पापा जी के सब लोग आकर पांव छूते थे। तो मैं नहीं छूता था कि सब जो काम कर रहे हैं मैं क्यों करूं? किसी के पैर छूना मतलब उनके गुण लेना, रिस्पेक्ट करना। मैं तब इतना जानता नहीं था। थोड़े दिनों बात मुझे अहसास हुआ कि ये आदमी बहुत ही ग्रेट आदमी है।’