जब राजकुमार राव की 25 लड़कों ने कर दी पिटाई, एक्टर बार-बार कर रहे थे एक रिक्वेस्ट

राजकुमार ने बताया था कि जब वह 11वीं क्लास में पढ़ते थे तब उन्हें पहली बार प्यार हुआ था।

Rajkumar Rao, Rajkumar Rao was thrashed by 25 boys, जब 25 लड़कों ने मिलकर कर दी थी राजकुमार की पिटाई (फोटो सोर्स- इंडियन एक्सप्रेस)

एक बार एक्टर राजकुमार राव 25 लड़कों के गैंग के बीच फंस गए थे। वो 25 लड़के दिल्ली के जाट थे, जिन्होंने राजकुमार की खूब पिटाई की थी। दरअसल, राजकुमार राव शाहरुख खान के बहुत बड़े फैन हैं। जब उन्होंने पहली बार फिल्म कुछ-कुछ होता है देखी थी तो उनके खयालों में भी फिल्म की अंजलि की तरह एक ‘अंजलि’ आने लगी थी।

स्कूल के दिनों में राजकुमार एक लड़की पर फिदा हो गए थे, जो कि अंजलि जैसी दिखती थी। राजकुमार ने बताया था कि जब वह 11वीं क्लास में पढ़ते थे तब उन्हें पहली बार प्यार हुआ था। अपने पहले प्यार का जिक्र करते हुए उन्होंने बताया था कि वह कोई आम लड़की नहीं थी बल्कि शाहरुख खान की कुछ कुछ होता है वाली अंजलि के जैसी थी। उसे बास्केट बॉल खेलना पसंद था।

राजकुमार ने बताया था कि वह शाहरुख खान के फैन हैं। ऐसे में जब ये फिल्म आई थी तो जैसे फिल्म में राहुल को अंजलि मिली थी, उन्होंने सोचा था कि उन्हें भी उनकी अंजलि मिल गई है। उन्होंने आगे बताया था कि ‘पर उस अंजलि का पहले से बॉयफ्रेंड था।’

उस वक्त राजकुमार गुड़गांव के ब्लू बेल्स स्कूल में पढ़ते थे। तब उन्होंने शाहरुख की ‘कुछ कुछ होता है’ देखी थी, एक्टर ने बताया था कि वह पूरी तरह से उस फिल्म में डूबे हुए थे। राजकुमार ने बताया था कि जब उन्होंने अंजलि जैसी लड़की को देखा तो वो उन्हें पसंद आ गई। कुछ वक्त दोनों ने एक दूसरे को डेट भी किया। लेकिन फिर अंजिल का अमन नाम का एक बॉयफ्रेंड सामने आ गया।

राजकुमार ने आगे बताया था कि ‘जब अमन को इस बारे में पता चला कि अंजलि मुझे डेट कर रही है तो वो 25 जाट लड़के लेकर आ गया मेरी कुटाई करने। मैं काफी सीधा साधा किस्म का था। ऐसे में मैंने सोच लिया था कि मैं कुछ नहीं कहूंगा, तभी 25 लड़के मुझे पीटने लगे। मैं चुप था क्योंकि मैंने सोचा कि मुझे एक्टर बनना है, तो यहां से सही सलामत निकल जाऊं। मेरे दो और पंजाबी दोस्त थे जो उन्हें कह रहे थे कि उसे मत मारो। आप मानोगे नहीं उस वक्त पिटते हुए मैं कह रहा था कि ‘मेरे चेहरे पर मत मारो। मुझे एक्टर बनना है।’ तब सब लोग मेरी बात सुनकर हंस पडे थे।’