‘ज़ंजीर’ की कहानी सुनाने पर प्रोड्यूसर ने धक्के मारकर सलीम खान को कर दिया था बाहर, खुद सुनाई थी घटना

सलीम खान ने एक इंटरव्यू में बताया था कि फिल्म ज़ंजीर की कहानी सुनने के बाद प्रोड्यूसर ने उन्हें घर से धक्के मारकर बाहर कर दिया था। आगे हुए हुआ था कुछ ऐसा-

Salim Khan, Salman Khan सलमान खान के पिता सलीम खान (Photo- Indian Express)

साल 1973 में रिलीज हुई फिल्म ज़ंजीर अमिताभ बच्चन के करियर में मील का पत्थर साबित हुई थी। फिल्म की कहानी सलीम खान ने लिखी थी। फिल्म के डायरेक्टर और प्रोड्यूसर प्रकाश मेहरा थे। फिल्म बॉक्स ऑफिस पर सुपरहिट हुई थी। लेकिन सलीम खान के लिए पहले इस फिल्म को बेचना बिल्कुल भी आसान नहीं था। एक बार तो फिल्म की कहानी सुनने के बाद प्रोड्यूसर ने उन्हें घर से धक्के मारकर बाहर कर दिया था।

एक इंटरव्यू में सलीम खान ने बताया था, ‘बॉबी के हिट होने के बाद लोगों को लगा कि अब ऐसी ही प्रेम कहानी पर फिल्म बनानी चाहिए। ज़ंजीर की कहानी सबसे अलग थी। उसका हीरो हर किसी के सामने रोता ही रहता था। मुझे फिर एक कैरेक्टर याद आया। ऐसे कैरेक्टर जो किसी लड़की का हाथ नहीं पकड़ता था और जो गाना नहीं गाता था। उसकी वजह से प्रोड्यूसर ने मुझे घर से धक्के मारकर बाहर निकाल दिया था क्योंकि मैंने उन्हें ढाई घंटे में कहानी सुनाई थी।’

सलीम खान आगे कहते हैं, ‘उस फिल्म को मेरे लिए बेचना भी बहुत मुश्किल था। मुंबई में रहने वाला हर एक्टर इसके लिए मना चुका था। दिलीप को फिल्म सुनाई तो उन्होंने मना कर दिया। धर्मेंद्र, देव साहब, राजकुमार ने ये फिल्म रिफ्यूज कर दी थी। हमारे पास नए एक्टर को लेने के अलावा कोई ऑप्शन नहीं था। हमने बॉम्बे टू गोवा देखी थी और हमें अमिताभ पसंद आया था। हमने वहीं फैसला कर लिया था कि अमिताभ बच्चन को ये फिल्म में हम लेंगे।

लोग हाथ पकड़कर सलीम खान मांगते थे फिल्म: बकौल सलीम खान, बाद में दिलीप कुमार से पूछा गया तो उन्होंने खुद कहा कि इस फिल्म को नहीं करने का उन्हें सच में अफसोस है। आपको अपने प्रोडक्ट की कीमत पता होनी चाहिए। ‘दीवार’ की कहानी हम सुनाते थे तो लोग हमारा हाथ पकड़ लिया करते थे। क्योंकि उन्हें लगता था कि ये फिल्म हिट होगी। सभी प्रोड्यूसर चाहते थे कि इस फिल्म को अभी हां बोलकर जाओ, नहीं तो किसी और को इसे बेच दोगे। ये सब चीजें विश्वास से ही होती हैं और हमें अपने ऊपर ही इतना विश्वास था।