जातीय जनगणना को लेकर बिहार CM पर बरसीं लालू की बेटी, बताया “पिछड़ों का दुश्मन”; नीतीश ने केंद्र को अल्टीमेटम दे कहा- फैसले पर करें पुनर्विचार

जातीय जनगणना के मसले पर बिहार में सियासी बवाल नहीं थम रहा है। केंद्र सरकार के सामने राष्ट्रीय स्तर पर इसकी मांग उठाने के बावजूद बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर राजद नेता लालू प्रसाद यादव की बेटी रोहिणी आचार्य बरसी हैं। उन्होंने कुमार को पिछड़ों के हितों का विरोधी करार दिया है, जबकि बिहार […]

जातीय जनगणना के मसले पर बिहार में सियासी बवाल नहीं थम रहा है। केंद्र सरकार के सामने राष्ट्रीय स्तर पर इसकी मांग उठाने के बावजूद बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर राजद नेता लालू प्रसाद यादव की बेटी रोहिणी आचार्य बरसी हैं।

उन्होंने कुमार को पिछड़ों के हितों का विरोधी करार दिया है, जबकि बिहार सीएम ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली एनडीए सरकार को इस मसले पर अल्टीमेटम दे डाला है। कहा है कि वह अपने फैसले पर पुनर्विचार करे। बता दें कि केंद्र जातीय जनगणना कराने के मुद्दे पर सुप्रीम कोर्ट में पल्ला झाड़ चुका है।

लालू की बेटी ने दिखाया कड़ा रुखः डॉ.रोहिणी बोलीं, “भाजपा का जो यार है, जातीय जनगणना का विरोधी नीतीश कुमार है। भ्रम के जाल में उलझा, नीतीश कुमार कुर्सी का भूखा है।” उनके मुताबिक, ओबीसी समाज के हितों का दुश्मन बीजेपी का यार नीतीश कुमार है।

CM बोले- जातीय जनगणना सबके हित मेंः दिल्ली की एक बैठक में बिहार सीएम ने स्पष्ट कर दिया कि जातीय जनगणना सभी के हित में है, इसलिए केंद्र को इस पर फिर से विचार करना चाहिए। सूत्रों के हवाले से कुछ मीडिया रिपोर्ट्स में बताया गया कि जिस दौरान सीएम ने ये बातें कहीं, उस वक्त उनका लहजा काफी कड़ा था। मीटिंग में असल मुद्दा नक्सल समस्या से जुड़ा था, जबकि नीतीश का पूरा ध्यान जातिगत जनगणना पर ही रहा।