जालसाजी, अपहरण व शराब तस्करी के आरोपी वैभव BJP में हुए शामिल, पूर्व IAS बोले- गुण देखकर लग रहा है आगे तक जाएंगे

जालसाजी, अपहरण व शराब तस्करी के आरोपी वैभव चतुर्वेदी भाजपा में शामिल हो गए हैं। उन्हें लेकर अब पूर्व आईएएस सूर्य प्रताप सिंह ने ट्वीट किया है।

vaibhav chaturvedi, vaibhav chaturvedi twitter, bjp भाजपा में शामिल हुए वैभव चतुर्वेदी (फोटो सोर्स- अभिनव पांडे ट्विटर)

उत्तर प्रदेश में साल 2022 में होने वाले विधानसभा चुनाव में अब ज्यादा वक्त नहीं रह गया है। ऐसे में भाजपा भी चुनाव की तैयारी में लगी हुई है। हाल ही में संत कबीरनगर के वैभव चतुर्वेदी भाजपा में शामिल हुए हैं, जिन्हें लेकर सवाल खड़े होने शुरू हो गए हैं। दरअसल, वैभव चतुर्वेदी पर जालसाजी, अपहरण और अवैध शराब तस्करी के आरोप हैं। वहीं दूसरी और भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह ने उन्हें ‘समाजसेवी’ बताया है। वैभव चतुर्वेदी को लेकर अब पूर्व आईएएस सूर्य प्रताप सिंह ने भी ट्वीट किया है।

पूर्व आईएएस सूर्य प्रताप सिंह ने भाजपा में शामिल हुए वैभव चतुर्वेदी को लेकर लिखा, “बड़ा प्रभावशाली बायोडाटा है। इनके गुणावगुण देखकर तो लग रहा है कि भाजपा में आगे तक जाएंगे।” सूर्य प्रताप सिंह के इस ट्वीट पर सोशल मीडिया यूजर भी खूब कमेंट कर रहे हैं।

हरजीत नाम के यूजर ने पूर्व आईएएस सूर्य प्रताप सिंह के ट्वीट का जवाब देते हुए लिखा, “देश के जितने भी बलात्कारी हैं, खूनी हैं और गुंडे हैं, वह सभी लोग भाजपा की गोद में बैठे हैं। जब तक वह भाजपा की गोद में बैठे हैं, तब तक उनपर कोई केस दर्ज नहीं होगा। उनपर कोई ईडी, सीबीआई का केद दर्ज नहीं होता। जब भाजपा छोड़ देते हैं तो सारी धाराएं लग जाती हैं।”

हंसराज सिंह नाम के यूजर ने पूर्व आईएएस के ट्वीट का जवाब देते हुए लिखा, “इधर से अपराधी डालो और उधर से देशभक्त निकलेगा।” संदीप नाम के यूजर ने लिखा, “मोदी जी के मुकुट में एक और रत्न जड़ गया। इसमें आश्चर्य कैसा।” भीष्म नाम के यूजर ने लिखा, “भारतीय जनता पार्टी अपराधियों के लिए गंगा समान है, जो उनके हर पाप को धो देती है और अपना बना देती है।”

बता दें कि वैभव चतुर्वेदी को अवैध शराब के मामले में 10 जनवरी, 2020 को संतकबीर नगर की खलीलाबाद पुलिस ने गिरफ्तार किया था। इसके बाद वह 17 जनवरी को बस्ती के जेल से रिहा हो गए थे। इसके अलावा उनपर कूटरचित अभिलेख तैयार करके प्रभा इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज बिधियानी खलीलाबाद का रजिस्ट्रेशन कराए जाने का भी आरोप है। बीते साल 12 अप्रैल को उनके खिलाफ अपहरण का केस दर्ज हुआ था।