जावेद अख्तर ने लिखे थे सलीम खान की फिल्म के डायलॉग, ऐसे हुई थी दोनों की पहली मुलाकात

सलीम खान और जावेद अख्तर की पहली मुलाकात फिल्म ‘सरहदी लुटेरा’ की शूटिंग के दौरान हुई थी। इस फिल्म में सलीम खान का छोटा रोल था और जावेद अख्तर ने इसका स्क्रीन प्ले लिखा था।

Salim, Javed Akhtar सलीम खान के साथ जावेद अख्तर (फाइल फोटो)

यूं तो सलीम खान को फिल्म इंडस्ट्री का बेहतरीन राइटर माना जाता है, लेकिन वह हीरो बनने का सपना लेकर मुंबई आए थे। हालांकि उनका सपना पूरा नहीं हो पाया और उन्होंने पैसे कमाने के लिए फिल्मों की स्क्रिप्ट लिखनी शुरू कर दी। सलीम खान के साथ जावेद अख्तर की जोड़ी को लोगों ने खूब पसंद किया था। दोनों की फिल्म की कहानी भी सबसे अलग हुआ करती थी। आइए आपको बताते हैं कि दोनों की पहली मुलाकात कब और कहां हुई थी?

सलीम खान को एस.एम सागर ने फिल्म ‘सरहदी लुटेरा’ में एक रोमांटिक रोल दिया था। फिल्म का बजट बहुत कम था। यहां तक कि फिल्म के लिए कोई राइटर तक भी नहीं था। ऐसे में डायलॉग और स्क्रीनप्ले लिखने के लिए रोज़ाना नए राइटर आते थे। इसलिए फिल्म की कहानी भी थोड़ी-थोड़ी अलग लगा करती थी। ऐसी फिल्में सलीम खान को बिल्कुल भी पसंद नहीं था, लेकिन उनके सामने भी मजबूरी ही थी।

सलीम खान को एक दिन इस पर गुस्सा आ गया और उन्होंने डायरेक्टर से कहा कि वह खुद फिल्म के डायलॉग भी लिखेंगे। क्योंकि इससे पहले जो डायलॉग और स्क्रीन-प्ले लिखा गया था वो बहुत खराब था। सलीम खान की इस बात से डायरेक्टर साहब शर्मिंदा हुए और उन्होंने सेट पर खड़े ‘क्लैपर बॉय’ को बुलाया। दरअसल वो क्लैपर बॉय भी कुछ-कुछ लिखा करता था और एम.एम सागर साहब को ये बात पता थी। ये कोई और नहीं बल्कि जावेद अख्तर ही थे।

जावेद अख्तर भी काम की तलाश में इधर-उधर भटक रहे थे। उन्होंने तुरंत इस ऑफर को स्वीकार कर लिया। जावेद अख्तर ने डायलॉग और स्क्रीनप्ले ऐसे लिखे कि सेट पर मौजूद सभी लोगों को ये बहुत पसंद आए। सलीम खान ने भी जावेद अख्तर की राइटिंग को बहुत पसंद किया। एम.एम सागर ने जावेद अख्तर को 100 रुपए तनख्वा पर नौकरी पर ही रख लिया। यहीं से दोनों की पहली मुलाकात हुई थी और इसके बाद उन्होंने राइटिंग करनी शुरू की। बाद में दोनों की जोड़ी ने जंजीर, शोले, दीवार और डॉन जैसी फिल्में भी दीं।