जिसे मैंने काम दिया, उससे काम मांगना मेरे लिए शर्मिंदगी थी- जब अमिताभ बच्चन से रिश्तों पर बोले महमूद

वक्त के साथ अमिताभ बुलंदियों को छूते गए और महमूद कहीं पीछे छूट गए। एक वक्त ऐसा भी आया कि महमूद के पास कोई काम नहीं था और उन्हें अमिताभ की तरफ़ से भी कोई ऑफर नहीं मिला।

amitabh bachchan, mehmood, amitabh mehmood अमिताभ बच्चन को महमूद बेटा मानते थे (Photo-File)

अमिताभ बच्चन जब हिंदी सिनेमा जगत में आए तब उन्हें काफी संघर्ष करना पड़ा। उनकी शुरुआती फिल्मों ने बेहतर प्रदर्शन नहीं किया जिस कारण वो निराश हो गए थे और उन्होंने मुंबई छोड़कर जाने का मन बना लिया था। वैसे मुश्किल दौर में अभिनेता, निर्माता महमूद ने उन्हें संभाला था। अमिताभ ने खुद इस बात का जिक्र किया था कि महमूद ने उन्हें अपने घर में रखा और फ़िल्मों में काम दिया।

महमूद उन्हें अपने बेटे की तरह मानते थे और अमिताभ भी उन्हें पितातुल्य सम्मान देते थे। वक्त के साथ-साथ अमिताभ बुलंदियों को छूते गए और महमूद कहीं पीछे छूट गए। एक वक्त ऐसा भी आया कि महमूद के पास कोई काम नहीं था और उन्हें अमिताभ की तरफ़ से भी कोई ऑफर नहीं मिला।

महमूद ने अपने इस बुरे अनुभव का किस्सा लहरें रेट्रो को दिए एक इंटरव्यू में किया था। उन्होंने बताया था, ‘जिसको मैंने काम दिया, मैं ही जा रहा हूं उससे काम मांगने के लिए….इसलिए मैं नहीं गया। मैंने कहा नहीं यार! मुझे खुद पर शर्मिंदगी महसूस हुई कि अब मैं उसके पास (अमिताभ के पास) वापस नहीं जाऊंगा।’

महमूद ने कहा था उन्होंने अमिताभ को पैसा कमाना सिखाया था। उनका कहना था, ‘पैदा करने वाला बाप तो बच्चन साहब हैं हीं, मैं एक बाप हूं जिसने उसे कमाना सिखाया, अपने साथ में रखकर। घर में रखकर पिक्चरें दिलाई, पिक्चरों में काम दिया।’ महमूद ने कहा था कि अमिताभ ने उनके साथ जो भी किया उसके लिए उन्होंने उन्हें माफ कर दिया क्योंकि वो उनके पिता ही हैं।

अमिताभ जब मुंबई छोड़कर जाने लगे थे तब महमूद ने उन्हें समझाया और अपने घर में रखा था। उन्होंने अपनी फ़िल्म, ‘बॉम्बे टू गोवा’ में अमिताभ को काम दिया था। इस फ़िल्म को महमूद ने प्रोड्यूस था। शुरू में अमिताभ को डांस नहीं आता था। इस फ़िल्म के गाने, ‘देखा ना हाय रे, सोचा ना’ की शूटिंग में अमिताभ का डांस देख पूरी यूनिट हंस पड़ी थी।

अमिताभ को इससे काफी शर्मिंदगी हुई। उन्हें इस बात का इतना बुरा लगा कि बुखार आ गया। महमूद जब उन्हें ढूंढते हुए आए तो अमिताभ ने उनके पैर पकड़ लिए और रोते हुए कहा कि उनसे डांस नहीं हो पाएगा, सब हंस रहे हैं। जब फ़िल्म रिलीज़ होगी तो पूरा देश हंसेगा।

महमूद ने उन्हें समझाया कि उन्हें डांस तो करना ही पड़ेगा। उन्होंने सेट पर माजूद सभी लोगों को डांटते हुए कहा कि अमिताभ के डांस पर कोई न हंसे, सब हौसला बढ़ाने के लिए तालियां बजाएं। महमूद ने अमिताभ को डांस करना भी सीखा दिया और जब फ़िल्म रिलीज़ हुई तो फिल्म के साथ-साथ ये गाना भी सुपरहिट हुआ।