जुगजुग जियो की कमाई 50 करोड़ के पार

अपनी रिलीज के छठे दिन, जुग जुग जियो ने टिकट खिड़की पर 3.97 करोड़ रुपए जुटाए, जिससे बाक्स आफिस पर कुल कुमाई 50.24 करोड़ रुपए हो गई।

फिल्म जुगजुग जियो का बाक्स आफिस संग्रह 50 करोड़ रुपए के पार पहुंच गया है। फिल्म के निमार्ताओं ने गुरुवार को यह जानकारी दी। राज मेहता के निर्देशन में फिल्म का निर्माण धर्मा प्रोडक्शन के बैनर तले हुए हैं। पारिवारिक मनोरंजक फिल्म 24 जून को बड़े पर्दे पर रिलीज हुई थी। प्रोडक्शन हाउस के आधिकारिक इंस्टाग्राम पेज पर एक पोस्ट में जुग जुग जियो के नवीनतम बाक्स आाफिस संग्रह से जुड़े आंकड़े पेश किए गए हैं।

धर्मा प्रोडक्शंस के पोस्ट के मुताबिक, इस परिवार का प्यार परिवारों को बड़े पर्दे तक लाने और अपने पंजाबी झुकाव के कारण उनका मनोरंजन करना जारी रखे हुए है। अपनी रिलीज के छठे दिन, जुग जुग जियो ने टिकट खिड़की पर 3.97 करोड़ रुपए जुटाए, जिससे बाक्स आफिस पर कुल कुमाई 50.24 करोड़ रुपए हो गई। अपने शुरूआती हफ्ते में फिल्म ने 36.93 करोड़ रुपए की कमाई की थी। जुग जुग जियो में वरुण धवन, अनिल कपूर, कियारा आडवाणी, नीतू कपूर, मनीष पाल और प्राजक्ता कोली मुख्य भूमिकाओं में हैं।

उम्दा कहानी किसी भी भाषा की फिल्म को सफल बना सकती है

ANUPAMA SIDE ROLE ACTORS ARE LOVED BY FANS

‘अनुपमा’ में सपोर्टिंग रोल निभा रहें इन 7 किरदारों ने भी जीता दिल

TV ACTRESS WHO HAVE SAVED THEMSELVES FROM CASTING COUCH

रुबीना और दिव्यांका सहित टीवी की इन टॉप एक्ट्रेसेस ने कास्टिंग काउच से बचाई अपनी इज्जत

ESHA GUPTA IN KILLER LOOK

व्हाइट गाउन में ईशा गुप्ता का किलर अवतार

पक्के चाय लवर हैं बॉलीवुड के ये 7 सितारे

कमाई के पैमाने पर दक्षिण भारतीय सिनेमा बनाम हिंदी सिनेमा को लेकर जारी बहस के बीच अभिनेता रणबीर कपूर का मानना है कि उम्दा कहानी पर बनी कोई भी फिल्म भाषा और क्षेत्र की सीमा के पार जाकर टिकट खिड़की पर शानदार प्रदर्शन कर सकती है। उन्होंने जोर देकर कहा कि भारत की सभी भाषाओं की फिल्मों को भारतीय फिल्मों के रूप में संबोधित किया जाना चाहिए।

इंदौर में रणबीर ने कहा, ह्यहमारी संस्कृति, संस्कारों और परंपराओं से जुड़ी उम्दा कहानियों पर आधारित फिल्में भारत ही नहीं, बल्कि दुनियाभर में सफल हो सकती हैं। आप किसी उम्दा कहानी पर फिल्म बनाएं तो यह भाषा और क्षेत्र की सीमा के पार जाकर सफलता के झंडे गाड़ सकती है। 39 वर्षीय अभिनेता से पूछा गया था कि क्या मौजूदा दौर में हिंदी फिल्में सिनेमाघरों में तभी बंपर कमाई कर सकती हैं, जब उनमें दक्षिण भारतीय फिल्मों की तर्ज पर एक्शन से भरपूर दृश्यों को भव्यता से पर्दे पर पेश किया जाए।

जवाब में रणबीर ने कहा, दक्षिण भारतीय भाषाओं में बनी फिल्में हमेशा से अच्छा प्रदर्शन करती आई हैं। हमारी हिंदी फिल्में भी अच्छा प्रदर्शन कर रही हैं। हमें इन सभी भाषाओं की फिल्मों को भारतीय फिल्मों के रूप में संबोधित करना चाहिए, क्योंकि हम पूरे देश के लिए फिल्में बना रहे हैं। उन्होंने कहा, आपको उसमें उम्दा कहानी, प्रभावी किरदारों, भू-भाग के शानदार फिल्मांकन और रचनात्मकता के जरिए वह सब पेश करना ही होगा, जिसकी वजह से दर्शक सिनेमाघरों तक खिचे चले आते हैं।

रणबीर अपनी आगामी फिल्म शमशेरा के प्रचार के सिलसिले में साथी कलाकारों-संजय दत्त और वाणी कपूर के अलावा निर्देशक करण मल्होत्रा के साथ इंदौर आए थे। ऐतिहासिक पृष्ठभूमि पर आधारित यह फिल्म हिंदी के साथ ही तमिल और तेलुगू भाषा में 22 जुलाई को सिनेमाघरों में दस्तक देगी।
उन्होंने कहा, मैंने अपनी अधिकांश फिल्मों में रूमानी किरदार निभाए हैं। फिलहाल मैंने ऐसे किरदारों से थोड़ा विराम लिया है, क्योंकि एक वक्त के बाद आप अपने करिअर में उस मोड़ पर पहुंच जाते हैं, जहां आपको कुछ अलग करना होता है।