टैक्सपेयर के पैसे पर गद्दी बचाने का सफ़र, कोई तो ईमानदार मिले- छत्तीसगढ़ कांग्रेस में जारी कलह पर पुण्य प्रसून बाजपेयी ने साधा निशाना

छतीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को उनके ही मंत्री टीएस सिंहदेव से मिल रही चुनौती के बीच नेतृत्व का संकट गहरा गया जिसे लेकर कई मंत्री और विधायक दिल्ली आए हैं।

chhattisgarh congress, T S Singh deo, bhupesh baghel छत्तीसगढ़ कांग्रेस में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और स्वास्थ्य मंत्री टी एस सिंह देव के बीच तनातनी जारी है (Photo-File)

छत्तीसगढ़ कांग्रेस में नेतृत्व परिवर्तन की चर्चा के बीच मुख्यमंत्री भूपेश बघेल शुक्रवार को राहुल गांधी के आवास पर राहुल गांधी और प्रियंका गांधी से मिले हैं। राज्य के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को उनके ही मंत्री टी एस सिंह देव से मिल रही चुनौती के बीच नेतृत्व का संकट गहरा गया जिसे लेकर कई मंत्री और विधायक दिल्ली आए हैं। इसी घटनाक्रम पर वरिष्ठ पत्रकार पुण्य प्रसून बाजपेयी ने कांग्रेस पर निशाना साधा है।

उन्होंने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से किए गए एक ट्वीट में लिखा कि कांग्रेस टैक्सपेयर के पैसे से गद्दी बचाने में लगी हुई है। शुक्रवार शाम किए गए अपने ट्वीट में बाजपेयी ने लिखा, ‘कोई तो ईमानदार मिले… छत्तीसगढ़ के 6 मंत्री 35 विधायक दिल्ली आए… टैक्सपेयर के पैसे पर गद्दी बचाने का सफ़र…।’

बाजपेयी के इस ट्वीट पर ट्विटर यूजर्स की भी प्रतिक्रिया देखने को मिल रही है। मोहम्मद आज़म सिद्दीकी नाम के एक यूजर ने लिखा, ‘भूपेश बघेल एक बेहतर सीएम हैं। वो जनता के मुख्यमंत्री हैं। अगर उन्हें कांग्रेस बदलती है तो कांग्रेस की बड़ी भूल होगी, जो दो-चार राज्यों में कांग्रेस का जनाधार बचा है, वो भी खत्म हो जाएगा।’

प्रदीप कुमार नाम के एक यूजर लिखते हैं, ‘बीजेपी अपनी कामयाबी नहीं बल्कि कांग्रेस जैसी विपक्षी पार्टियों की नाकामियों की वजह से चुनाव जीत रही हैं l क्या कर सकते हैं….।’

पियूष कुमार सिंह नाम के यूजर ने लिखा, ‘बदले बदले से सरकार नज़र आते हैं। खैर, इस मामले में सभी पार्टियां एक जैसी हैं। ऐसा ही खेल सब जगह होता है।।’

बता दें कि शुक्रवार को मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने राहुल गांधी से मुलाकात के बाद कहा कि उन्होंने अपने नेता से दिल की बात कह दी है। सीएम ने कहा कि मुख्यमंत्री के तौर पर उनके निमंत्रण पर राहुल गांधी अगले सप्ताह राज्य का दौरा करेंगे। राहुल गांधी से सीएम की मुलाकात करीब 3 घंटे चली जिसके बाद बघेल से मुख्यमंत्री पद के ढाई-ढाई साल के फॉर्मूले पर सवाल पूछा गया। सीएम ने इसका सीधा उत्तर नहीं दिया और कहा कि छत्तीसगढ़ के कांग्रेस प्रभारी पीएल पुनिया ने जो कहा था, उसके बाद कोई बात बाकी नहीं रह जाती।

गौरतलब है कि बीते मंगलवार को राहुल गांधी से मुख्यमंत्री और स्वास्थ्य मंत्री टी एस सिंह देव की मुलाकात के बाद पीएल पुनिया ने कहा था कि नेतृत्व परिवर्तन को लेकर किसी तरह की चर्चा नहीं हुई है।