टोक्यो ओलंपिक में भाला फेंककर कमाया नाम, अब बच्चे की जान बचाने को बेचना पड़ रहा सिल्वर मेडल

अपने ओलंपिक मेडल को नीलम करने की जानकारी मारिया ने सोशल मीडिया से दी, जिसकी लोग खूब सराहना कर रहे हैं। मारिया ने ‘टोक्यो ओलंपिक 2020’ में 64.61 मीटर भाला फेंक कर रजत पदक अपने नाम किया था।

Sports,Olympics,Tokyo 2020 Olympics, tokyo olmpic, maria andrejczyk, shoking news silvar medal,Silver medal, auctioned for saving the life of a child, न्यूज़ नेशन, news nation, news nation live tv, news nation live, news nation videos, jansatta पोलिश एथलीट मारिया ने अपना मेडल नीलम करने का फैसला किया है। (AP/file)

‘टोक्यो ओलंपिक 2020’ में मेडल जीतने वाली पोलिश एथलीट मारिया ने अपना मेडल नीलम करने का फैसला किया है। मारिया भाला फेंक प्रतियोगिता में सिल्वर मेडल जीता था। उन्होंने एक मासूम की जिंदगी बचाने के लिए यह कदम उठाया है।

अपने ओलंपिक मेडल को नीलम करने की जानकारी मारिया ने सोशल मीडिया से दी, जिसकी लोग खूब सराहना कर रहे हैं। मारिया ने ‘टोक्यो ओलंपिक 2020’ में 64.61 मीटर भाला फेंक कर रजत पदक अपने नाम किया था। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक मारिया को पता चला कि मिस्लोव नाम का एक बच्चा दिल की जानलेवा बीमारी से ग्रसित है। बच्चे को ठीक होने के लिए सर्जरी की जरूरत है और इसके लिए काफी धन की जरूरत है।

सर्जरी में 13000 पाउंड यानि भारतीय मुद्रा के अनुसार एक करोड़ 30 लाख लगभग का खर्च आएगा। मारिया ने बच्चे की सर्जरी के लिए अपने सिल्वर मेडल को निलाम करने का फैसला किया है। मारिया की दरियादिली की सोशल मीडिया पर जमकर तारीफ हो रही है।

मेडल का खरीदार मिल गया है। मारिया ने बताया कि जाबाका नाम की कंपनी इस मेडल को खरीद रही है। उन्होंने कहा कि वे जाबाका कि आभारी हैं। मारिया ने लगभग एक सप्ताह पहले फेसबुक पर इसकी घोषणा की थी।

उन्होंने लिखा था, ‘मैंने इसके बारे में काफी सोचा, यह मेरा पहला फंडराइजर था और मुझे पता है कि यह एक सही फैसला था। हालांकि नीलामी शुरू करने से पहले मैने कई बार सोचा। क्योंकि ओलंपिक पदक कोई छोटी चीज नहीं होती है। उन्होंने कहा था कि वह नीलामी के लिए प्राइवेट संदेशों में बोलियों को स्वीकार करेंगी।

इलाज की आधी रकम कुबस के माता पिता दान करेंगे। उन्होंने यह रकम अपने बच्चें के इलाज के लिए जमा की थी। लेकिन जब तक काफी देर हो चुकी थी। इसलिए वह इस राशि को अब दान करना चाहते है। वह चाहते है कि पीडि़त बच्चा मिस्लोव पूरी तरह से स्वस्थ हो जाए।