ट्रंप राष्ट्रपति होते तो लिबरल गैंग अबतक उनपर टूट पड़ा होता- अफगानिस्तान में बम धमाकों पर बोले फिल्ममेकर

विवेक अग्निहोत्री और अशोक पंडित ने काबुल एयरपोर्ट धमाकों पर रिएक्शन दिया है। फिल्ममेकर के इन पोस्ट पर लोगों के ढेरों रिएक्शन सामने आने लगे।

Kabul Airport, Afghanistan, Taliban अफगानिस्तान के काबुल में धमाकों के बाद धू-धूकर उठता धुआं। (फोटोः एपी/पीटीआई)

अफगानिस्तान के काबुल एयरपोर्ट गेट के पास दो बड़े धमाके हुए, जिसमें 13 लोगों के मरने की खबर सामने आई। इस आतंकी हमले की सोशल मीडिया पर कड़ी निंदा हो रही है। ऐसे में फिल्ममेकर विवेक अग्निहोत्री ने एक ट्वीट किया। अपनी पोस्ट में विवेक अग्निहोत्री ने तंज भरे अंदाज में कहा- ‘काबुल हवाईअड्डा बम विस्फोट में कई मौतों के बारे में सुनकर दुख हुआ। कथित तौर पर, 12 अमेरिकी सैनिक भी मारे गए हैं। अब सोचिए अगर ट्रंप राष्ट्रपति होते, मुझे यकीन है कि लिबरल गैंग ने अब तक उन पर अपने बयानों से बमबारी कर दी होती।’

वहीं फिल्ममेकर अशोक पंडित ने भी एक ट्वीट किया जिसमें उन्होंने कहा- ‘अब कहां हैं इंडिया के वो तालिबानी? जो तालिबानियों की प्रेस कॉन्फ्रेंस पर नाच रहे थे। पूरी तरह से म्यूट में चले गए हैं वो तो। सड़कों पर बह रहा खून भी इन बशर्म लोगों को प्रभावित नहीं कर रहा।’

विवेक अग्निहोत्री और अशोक पंडित के इन पोस्ट पर लोगों के ढेरों रिएक्शन सामने आने लगे। निलय नाम के यूजर ने अग्निहोत्री को जवाब में लिखा- ‘ट्रंप ने भी ऐसा ही किया होता – यह ट्रंप या बिडेन के बारे में नहीं है बल्कि विश्व अर्थव्यवस्था कैसे चलती है, हथियारों के व्यापार, युद्ध और युद्ध की तैयारी इसे भारी बढ़ावा देती है।’

अर्चना नाम की महिला ने कहा- ‘सच है, उदारवादी इस पर चुप हैं, रिहाना, ग्रेटा, स्वरा, तापसी, अख्तर सब साइलेंट मोड पर हैं। इनको इंडिया की सारी गलतियां दिखती हैं। अफगानिस्तान में तालिबान की हर गलती माफ।’ अमिताभ नाम के यूजर ने लिखा-‘हम अफगानिस्तान में पूरी घटना पर कड़ी नजर रख रहे हैं: कांग्रेस ऑफीशियल्स का कहना है।’

एक यूजर ने लिखा- ‘अगर ट्रंप राष्ट्रपति होते तो ऐसा कभी नहीं होता।’ बता दें, काबुल एयरपोर्ट पर धमाका के बाद हर तरफ अफरातफरी मच गई। इससे पहले ही अमेरिका, ब्रिटेन समेत कई देशों ने काबुल में आतंकी हमले की चेतावनी दी थी।

देर रात काबुल एयरपोर्ट में ज़ोरदारद बम धमाका हुआ जिसकी गूंज दुनिया भर में फ़ैल गई। एक के बाद एक दो धमाके हुए, कहा ये भी जा रहा है कि इन धमाके में 40 मौतों हुई हैं। लेकिन अमेरिका के अखबार wall street journal के अनुसार काबुल धमाके में 80 लोगों की मौतें हुई हैं। वहीं 200 से ज़्यादा लोग बुरी तरह घायल हुए हैं।