तालिबान धार्मिक उन्माद फैलाता है, RJD नेता जगदानंद बोले- RSS भी है तालिबानी, बयान पर मचा हंगामा, भाजपा-जदयू ने दी तीखी प्रतिक्रिया

आरजेडी प्रदेश अध्यक्ष बोले- “संघ चूड़ी बेचने वालों, पंक्चर बनाने वालों को मारता पीटता है।” बीजेपी बोली- “जो जिन लोगों के साथ रहेगा, वह वैसा ही गुण पाएगा।”

RJD, Jagdanand Singh आरजेडी के प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह। (इंडियन एक्सप्रेस फाइल फोटो)

बिहार में राष्ट्रीय जनता दल के प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह के बयान फिर चर्चा में है। इस बार उन्होंने राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (RSS) को ही तालिबान कह दिया। अपने तर्क में वे कहते हैं कि अफगानिस्तान में जो काम तालिबान कर रहा है, वही काम भारत में आरएसएस कर रहा है। वह राजधानी पटना में पार्टी कार्यालय में कार्यकर्ताओं को संबोधित कर रहे थे। इस दौरान उन्होंने कहा कि आरएसएस का गंदा दिमाग यहां की संस्कृति को बांट रहा है। लोगों को हिंसा करने के लिए उकसा रहा है। उनके बयान पर हंगामा मच गया। बयान के बाद मचे हंगामा और विरोधियों के हमले से आरजेडी उनके बचाव में उतर आई। पार्टी प्रवक्ता मृत्युंजय तिवारी ने कहा कि जगदानंद सिंह का बयान कहीं से गलत नहीं है। उनके कहने का अर्थ यह है कि आरएसएस भी हमेशा देश में बांटने का काम करता है।

जगदानंद ने कहा कि तालिबान को धार्मिक उन्माद फैलाने के लिए जाना जाता है। बताया कि भारत में आरएसएस भी यही काम कर रहा है। पूछा कि तब तालिबान और आरएसएस में अंतर कहां है? कहा कि “तालिबान एक नाम नहीं बल्कि संस्कृति है जो अफगानिस्तान में है। भारत में आरएसएस तालिबानी है और कुछ नहीं है। दोनों एक ही चीज हैं।” उन्होंने कहा कि “संघ चूड़ी बेचने वालों, पंक्चर बनाने वालों को मारता पीटता है। हमें इन लोगों को रोकना होगा। इनके खिलाफ आगे आना होगा।”

उनके इस बयान पर हंगामा खड़ा हो गया। भाजपा ने इस पर तीखी प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि जो जिस माहौल में रहता है, वैसा ही सोचता है। पार्टी प्रवक्ता अरविंद सिंह ने कहा कि “आरजेडी जिस संस्कृति का दल है, उसके शब्द भी वैसे ही निकल रहे हैं। कहा जगदानंद से ऐसी उम्मीद नहीं थी, लेकिन जो जिन लोगों के साथ रहेगा, वह वैसा ही गुण पाएगा।”

सत्ताधारी जदयू के प्रवक्ता अभिषेक झा ने कहा कि “जगदानंद बाबू डिरेल्ड हो गए हैं। लंबे समय से पार्टी में टार्चर किया जा रहा है। कभी तेजस्वी तो कभी तेज प्रताप के कारण टॉर्चर हो रहे हैं। उनकी बयानबाजी इसी का नतीजा है।”

जगदानंद ने कहा कि बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी का मालवीय जी ने काशी विश्वविद्यालय रखा था, अंग्रेजों ने जबरन उसमें हिंदू जुड़वा दिया था। कहा कि हमारे राष्ट्रीय अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव ने आडवानी को गिरफ्तार किया था, क्योंकि वह आरएसएस के एजेंडे पर देश को बांट रहे थे।