दिलीप कुमार से एयरपोर्ट पर हुई इस मुलाकात के बाद सायरा बानो ने किया था इंडस्ट्री छोड़ने का फैसला, जानें क्या था माजरा

सायरा बानो ने अपने एक इंटरव्यू में बताया था कि दिल्ली एयरपोर्ट पर हुई दिलीप कुमार से मुलाकात के बाद उन्होंने इंडस्ट्री छोड़ने का फैसला किया था।

saira banu, dilip kumar, बॉलीवुड की मशहूर एक्ट्रेस सायरा बानो और दिलीप कुमार (फोटो सोर्स- इंडियन एक्सप्रेस)

बॉलीवुड की मशहूर एक्ट्रेस सायरा बानो ने अपनी फिल्मों और अपने अंदाज से हिंदी सिनेमा में जबरदस्त पहचान बनाई है। सायरा बानो ने ‘जंगली’ फिल्म से बॉलीवुड में कदम रखा था और इसके बाद वह कई हिट फिल्मों में दिखाई दी थीं। हालांकि दिलीप कुमार से शादी के बंधन में बंधने के कुछ सालों बाद एक्ट्रेस ने इंडस्ट्री को छोड़ने का फैसला कर लिया था। लेकिन सायरा बानो द्वारा इस फैसले को लेने के पीछे की वजह एयरपोर्ट पर दिलीप कुमार से हुई उनकी मुलाकात थी। इस बात का खुलासा खुद एक्ट्रेस ने जूम को दिए इंटरव्यू में किया था।

सायरा बानो ने इंटरव्यू में एयरपोर्ट से जुड़े किस्से को साझा करते हुए बताया था, “एक बार मैं कश्मीर में रहकर फिल्म की शूटिंग कर रही थी। उन दिनों कश्मीर से दिल्ली फ्लाइट आती थी और फिर दिल्ली से मुंबई जाती थी। यूसुफ साहब अपने टैक्स के सिलसिले में मुंबई से दिल्ली आ रहे थे। मेरी फ्लाइट भी उस वक्त श्रीनगर से दिल्ली एयरपोर्ट पर लैंड हुई थी।”

सायरा बानो ने इस बारे में बात करते हुए आगे कहा था, “मैं उनसे एयरपोर्ट पर मिली और चंद मिनट में ही हमें एक-दूसरे से अलग होना पड़ा था। जहां मुझे मुंबई जाना पड़ा तो वहीं उन्हें दिल्ली में ही रहना था। इससे पहले बाहरी शूटिंग के कारण मैं उनसे करीब 10 से 15 दिनों तक नहीं मिली थी। ऐसे में मैंने उस दिन खुद से वायदा किया अगर मैं उनके साथ एक कप चाय नहीं पी सकती तो क्या फायदा।”

सायरा बानो ने इस बारे में बात करते हुए आगे बताया, “मैं उन्हें बहुत बुरी तरह से याद कर रही थी। शेड्यूल पूरा करने के बाद मैं घर आई और मैंने घोषणा की कि मैं अब दोबारा काम नहीं करूंगी। वह बहुत ही व्यस्त इंसान थे, उन्हें मेरे वक्त की इतनी जरूरत नहीं थी, जितनी मुझे उनके वक्त की थी।”

रेडिफ डॉट कॉम को दिए इंटरव्यू में सायरा बानो ने इंडस्ट्री छोड़ने के बारे में कहा था, “उन्होंने कभी भी मुझसे मेरा करियर छोड़ने के लिए नहीं कहा। उन्होंने तो बल्कि मुझे फिल्मों में काम करने के लिए प्रेरित किया है। लेकिन कुछ समय के बाद करियर में मेरा दिल नहीं लगा। मैं केवल साहब का ख्याल रखना चाहती थी।”