दिल्ली में राशन की होम डिलीवरीः क्या है अरविंद केजरीवाल सरकार की योजना और कैसे करेगी काम? जानिए

हालांकि, सरकार ने यह विकल्प लोगों के सामने दे रखा है कि वे किस तरह से राशन लेना चाहते हैं। डोर-स्टेप डिलीवरी के दौर में भी लोग चाहें तो केंद्र जाकर राशन ले सकते हैं।

ration, ration scheme in delhi, national news सरकारी स्कीम के तहत गेहूं पाने वाले लाभार्थी। (एक्सप्रेस आर्काइव फोटोः हरमीत सोढ़ी)

दिल्ली में मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के नेतृत्व वाली आप सरकार की राशन योजना पर बार फिर से ब्रेक लग गया है। केंद्र सरकार ने इसके लिए अनुमति नहीं दी है और रोक लगाने के पीछे राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम (एनएफएसए) का हवाला दिया है। शनिवार को आप ने इसी बाबत बीजेपी पर आरोप लगाया कि वह केंद्र सरकार की मशीनरी का इस्तेमाल दिल्ली में राशन की घर-घर डिलीवरी पर रोक लगाने के लिए कर रही है। आरोप-प्रत्यारोप और सियासत के इस दौर के बीच आइए समझते हैं कि आखिर दिल्ली सरकार की यह योजना है क्या और कैसे इसका लाभ मिलेगा:

“Mukhya Mantri Ghar Ghar Ration Yojana” या फिर दिल्ली सरकार की घर-घर राशन योजना उन सभी लोगों के लिए है, जिनके राशन कार्ड बने हैं। जो राशन की सरकारी दुकान से राशन पाते हैं, उन्हें इसका लाभ मिल सकेगा। दरअसल, पहले तक लोगों को सरकारी केंद्रों पर लाइन लगानी पड़ती थी, जिससे वहां अव्यवस्था के साथ उनका समय भी जाया होता था। इसी चीज को खत्म करने के लिए सरकार ने राशन की होम डिलीवरी शुरू की, जिसके तहत राशन लाभार्थियों के घर के पते पर पहुंचाया जाएगा।

हालांकि, सरकार ने यह विकल्प लोगों के सामने दे रखा है कि वे किस तरह से राशन लेना चाहते हैं। डोर-स्टेप डिलीवरी के दौर में भी लोग चाहें तो केंद्र जाकर राशन ले सकते हैं। वैसे, यहां एक महीन अंतर और वह यह कि राशन की होम डिलीवरी में लाभार्थियों को पिसा आटा, जबकि दुकान से गेहूं मिलेगा। यही नहीं, दिल्ली सरकार इस योजना से बाहर निकलने का विकल्प भी देगी।

जानकारी के मुताबिक, राशन की डिलीवरी किए जाने से पहले लाभार्थी के अंगूठे के निशान का मिलान किया जाएगा, ताकि किसी तरह का फर्जीवाड़ा न किया जा सके। इसी बीच, दिल्ली सरकार ने उन लोगों को बड़ी राहत दी है, जिनके पास राशन कार्ड नहीं हैं। इस तरह के लोगों को सरकार से फिलहाल फ्री राशन दिया जाता रहेगा। दिल्ली सरकार के इस निर्णय के दायरे में 40 लाख के आसपास गैर-पीडीएस लाभार्थी होंगे।

घर पर डिलीवरी के वक्त क्या होगा?: योजना के मुताबिक, जो लाभार्थी स्कीम के लिए साइन-अप करेंगे, उन्हें इस बारे में (राशन की डिलीवरी) पहले से बताया जाएगा। यह जानकारी उन्हें पूर्व में एसएमएस के जरिए दी जाएगी। ठीक वैसे ही, जैसे एलपीजी के मामले में दी जाती है। बाद में ई-पीओएस मेथड के जरिए बायमीट्रिक वेरिफिकेशन के बाग पैक किया हुआ राशन लाभार्थी को दिया जाएगा। लाभार्थी चाहें तो अपना मासिक राशन एक बार में ले लें या फिर उसे किश्तों में हासिल कर सकेंगे। अनाज की लागत के अलावा, एक निर्दिष्ट राशि, जिसका अभी तक खुलासा नहीं किया गया है, गेहूं को आटा में बदलने और चावल की सफाई के लिए शुल्क लिया जाएगा।