देश की कृषि व्यवस्था को तबाह कर मोदी के मित्रों को पूरा कारोबार सौंपने को बनाए गए ये 3 कानून- राहुल का प्रहार

राहुल गांधी ने सोमवार को कहा कि मोदी सरकार किसानों की बात समझना ही नहीं चाहती है।

rahul gandhi

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने कृषि कानूनों को लेकर एक बार फिर से मोदी सरकार को घेरा है। राहुल गांधी ने सोमवार को कहा कि मोदी सरकार किसानों की बात समझना ही नहीं चाहती है। बता दें कि किसान पिछले साल नवंबर से दिल्ली की सीमाओं पर बैठे विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं।

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने अपने संसदीय क्षेत्र वायनाड में लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि पूरी दुनिया देख सकती है कि भारत के किसान किस मुसीबत में हैं। लेकिन मोदी सरकार किसानों का दर्द समझ नहीं पा रही है। अमेरिकी पॉप सिंगर तक किसानों के मुद्दे पर बोल रहे हैं( रिहाना का जिक्र करते हुए) लेकिन बस ये बात मोदी सरकार को समझ नहीं आ रही है।

राहुल गांधी ने कहा, ”जब तक मोदी सरकार पर दबाव नहीं बनाया जाएगा वे इन तीन कानूनों को वापिस नहीं लेने वाले हैं। राहुल ने कहा कि मोदी सरकार जानकर ऐसा नहीं कर रही है क्योंकि वे देश की कृषि व्यवस्था को बर्बाद कर अपने दो-तीन दोस्तों को फायदा पहुंचाना चाहती है।”

किसानों के समर्थन में कांग्रेस नेता ने वायनाड में रैली की। राहुल ने कहा कि कृषि का लेना देना सिर्फ और सिर्फ भारत माता से है। राहुल ने कहा, “ हर दूसरा कारोबार या धंधा एक या दूसरे व्यक्ति से जुड़ा है। कुछ लोग देश की कृषि पर कब्जा करना चाहते हैं और ये कानून उन्हीं दो तीन लोगों के लिए लाए गए हैं।”

इससे पहले राहुल ने केंद्र पर हमला बोलते हुए कहा कि मोदी सरकार गरीबों की जेब खाली कर अमीरों की जेब भरने का काम कर रही है। राहुल ने कहा कि केंद्र की बीजेपी सरकार ईंधन पर भारी टैक्स लगाकर गरीब लोगों को लूटने का काम कर रही है। राहुल गांधी ने कहा कि गरीबों को राहत देने के लिए सरकार को ईंधन पर टैक्स कम करना चाहिए।

राहुल गांधी ने ट्वीट किया, “पेट्रोल पम्प पर गाड़ी में तेल डालते समय जब आपकी नज़र तेज़ी से बढ़ते मीटर पर पड़े, तब ये ज़रूर याद रखिएगा कि कच्चे तेल का दाम बढ़ा नहीं, बल्कि कम हुआ है। पेट्रोल 100 रुपय/लीटर है। आपकी जेब ख़ाली करके ‘मित्रों’ को देने का महान काम मोदी सरकार मुफ़्त में कर रही है!”