देश में लोग कोरोना से न मरें, तो वैक्सीन पर GST या तेल के दाम से मर ही जाएगा- पत्रकार का कटाक्ष; BJP नेता ने दिया जवाब

भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा से ने वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण का गणित समझाते हुए बताया कि क्यों वैक्सीन से टैक्स को खत्म नहीं किया जा सकता।

coronavirus, covid-19

भारत में कोरोनावायरस के मामले तेजी से बढ़ने के साथ ही वैक्सीन की उपलब्धता को लेकर भी विपक्ष ने सरकार पर हमले तेज कर दिए हैं। कांग्रेस समेत सभी विपक्षी दलों का कहना है कि सरकार को जल्द से जल्द पूरे देश में एक दाम पर वैक्सीन मुहैया करानी चाहिए। साथ ही वैक्सीन पर लगने वाली जीएसटी पर भी सवाल उठाए जा चुके हैं। एक टीवी डिबेट में जब पत्रकार ने यही सवाल भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा से पूछे तो उन्होंने वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण का गणित समझाते हुए बताया कि क्यों वैक्सीन से टैक्स को खत्म नहीं किया जा सकता।

क्या था पत्रकार का सवाल?: टाइम्स नाउ के डिबेट में पत्रकार नविका कुमार ने पूछा था- “डॉक्टर पात्रा ये बताइए कि अगर कोई इस देश में कोरोना से मरे या न मरे तो जीएसटी से मर जाएगा या आपके पेट्रोल प्राइस से तो मर ही जाएगा। क्योंकि भोपाल में कुछ दिन पहले ही 100 रुपए के पार चला गया था पेट्रोल। लगे रहिए, डॉक्टर आप भी हैं। अब आप प्राइस अटैक से लोगों का इलाज करना शुरू कर दीजिए। टीकों पर जीएसटी लगाने का क्या तर्क है?

पात्रा बोले- जीएसटी नहीं लगा, तो लोगों पर बढ़ेगा बोझ: इस पर भाजपा नेता संबित पात्रा ने कहा, “कुछ दिन पहले निर्मला सीतारमण ने एक चिट्ठी लिखी थी बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के नाम पर। उन्होंने वैक्सीन पर जीएसटी लगाए जाने की चिंताओं का जवाब दिया था। वित्त मंत्री ने बताया था कि वैक्सीन पर जीएसटी लगाना फायदेमंद होगा, क्योंकि वैक्सीन पर जीएसटी दरअसल उपभोक्ताओं के लिए इसे सस्ता बनाती है।

पात्रा ने अपने बयान को स्पष्ट करते हुए कहा, “सीतारमण जी ने कहा था कि वैक्सीन पर लगने वाली जीएसटी को हटा लिया जाए तो वैक्सीन मैन्यूफैक्चरर्स इनपुट टैक्स क्रेडिट (आईटीसी) का इस्तेमाल नहीं कर पाएंगे, जिससे लागत बढ़ेगी और वे वैक्सीन की कीमत बढ़ा देंगे। बढ़ी हुई कीमत की वसूली उपभोक्ताओं से की जाएगी।”

वैक्सीन के दामों पर क्या रही है विपक्ष की मांग?: बता दें कि कांग्रेस की कार्यवाहक अध्यक्ष सोनिया गांधी ने पिछले महीने कहा था कि कोविड-19 के इलाज में काम आने वाली सभी दवाओं, उपकरणों और अन्य साधनों को जीएसटी से छूट दी जानी चाहिए। इसके बाद पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने भी इसी तरह की मांग करते हुए पीएम को चिट्ठी लिखी थी। बाद में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने विपक्ष को जवाब देते हुए 16 ट्वीट्स किए थे, जिसमें वैक्सीन पर जीएसटी लगाए रखने के कारण गिनाए गए थे।