देश से बाहर जाने की लगी होड़ को रोक नहीं पा रहा रूस, अब फ्लाइट टिकट में दर्ज हुई इतने प्रतिशत वृद्धि

हाइलाइट्स

रूस से जारी एकतरफा उड़ान टिकटों की संख्या में 27% की वृद्धि दर्ज हुई
देश में डिपार्चर का औसत समय 34 से घटकर 22 दिन हो गया
लामबंदी की घोषणा के एक दिन बाद रूस से तुर्की और आर्मेनिया जाने वाली सभी फ्लाइट सोल्ड आउट हो गई थी

मास्को. पुतिन द्वारा तत्काल लामबंदी के आदेश के बाद से रूस के बाहर जाने वाली फ्लाइट की कीमतों में भारी उछाल देखने को मिला है. न्यूज़ एजेंसी रॉयटर्स की रिपोर्ट के मुताबिक पुतिन के संबोधन के बाद लोगों में ऐसी आशंका बैठ गई कि सेना में भर्ती किये जाने की उम्र के नौजवानों को देश छोड़ने की अनुमति नहीं दी जाएगी. इस घोषणा के बाद से देश से युवाओं की एक बड़ी संख्या देश से पलायन कर रहे हैं. मंगलवार को आए स्पेन स्थित फॉरवर्डकीज के फ्लाइट टिकटिंग डेटा के अनुसार, रूस से जारी एकतरफा उड़ान टिकटों की संख्या में 27% की वृद्धि दर्ज हुई है.

21 सितंबर से 27 सितंबर तक की बुकिंग की तुलना करने पर कंपनी ने पाया कि जारी किए गए एकतरफा टिकटों की हिस्सेदारी पिछले सप्ताह 47% की तुलना में घोषणा के सप्ताह में बढ़कर 73% हो गई है. फॉरवर्डकीज के इनसाइट्स के उपाध्यक्ष ओलिवियर पोंटी ने कहा, ‘ये संख्या काफी उल्लेखनीय हैं और टिकटों की बिक्री में अचानक वृद्धि के समय की रिपोर्ट से संबंधित हैं’. साथ ही कंपनी ने कहा कि देश में डिपार्चर का औसत समय 34 से घटकर 22 दिन हो गया है.

घोषणा के तुरंत बाद टिकट हुई थी सोल्ड आउट
पुतिन के लामबंदी की घोषणा के एक दिन बाद रूस से तुर्की और आर्मेनिया जाने वाली सभी फ्लाइट सोल्ड आउट हो गई थी. दोनों देशों को जाने वाले नागरिकों के लिए वीजा की कोई जरूरत नहीं होती है. ऐसे में दोनों देशों के लिए जाने वाली सभी एयरलाइंस की टिकट पहले ही सोल्ड आउट हो गई थी. वहीं फ्लाइट के सोल्ड आउट होने के साथ ही इनके किरायों में भी अप्रत्याशित वृद्धि देखने को मिली है. गूगल फ्लाइट्स के डेटा से पता चलता है कि तुर्की के लिए एकतरफा किराया लगभग 70,000 रूबल ($ 1,150) तक बढ़ गया है जबकि एक सप्ताह पहले यह 22,000 रूबल से थोड़ा अधिक था.

Tags: Russia