देसी ऐप Koo में शामिल हुआ ‘टॉक टू टाइप’ फीचर, भारतीय भाषाओं का है सपोर्ट

भारतीय माइक्रोब्लॉगिंग साइट KOO ने ‘टॉक टू टाइप’ फीचर जारी किया है, जो भारतीय भाषाओं को सपोर्ट करता है। यह फीचर लगभग वॉयस टाइपिंग की तरह काम करता है।

Koo App, Koo App talk to type, Koo App new feature

भारत का सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म Koo ने टॉक टू टाइप नाम का फीचर लॉन्च कर दिया है। यह फीचर्स यूजर्स को बोलकर टाइप करने की सुविधा देता है, जो वॉयस टाइपिंग के समान ही है। यह फीचर्स हिंदी समेत सभी भारतीय भाषाओं को सपोर्ट करता है।

टॉक टाइप फीचर्स की मदद से यूजर्स कीबोर्ट को टच किए बगैर टाइप कर सकते हैं। इसके लिए यूजर्स को माइक के बटन पर क्लिक करके बोलना होगा और ऑटोमेटिक टाइपिंग शुरू हो जाएगी। हालांकि हम सलाह देते हैं कि आप धीरे-धीरे और साफ-साफ बोलें ताकि आपके सभी शब्द सही तरीके से टाइप हो सकें। इन्हें भी पढ़ेंः 15000 रुपये से कम में पाएं ये लेटेस्ट 5 फोन, दो में है 5जी सपोर्ट 

अभिनेत्री कंगना रनौत ने भी Koo पर अपने अकाउंट से एक पोस्ट किया है और लिखा कि Koo पर घर सा लगता है। बताते चलें कि कंगना का Koo पर पहले से अकाउंट मौजूद है, लेकिन ट्विटर अकाउंट सस्पेंड होने के बाद उन्होंने कू पर पोस्ट किया है। इन्हें भी पढ़ेंः 5000 रुपये से कम में पाएं ये 4 सस्ते फोन

Koo एक भारतीय माइक्रोब्लॉगिंग साइट है, जिसके संस्थापक मयंक बिदावतका और राधाकृष्णा हैं। इस सोशल मीडिया ऐप को साल 2020 की शुरुआत में लॉन्च किया गया है और इस ऐप ने आत्मनिर्भर ऐप इनोवेशन चैलेंज को अपने नाम किया था। यह ऐप लगभग ट्विटर की तरह ही है, लेकिन इसका साइनअप प्रोसेस उससे बिलकुल अलग है।

Koo में साइनअप करने के लिए सिर्फ मोबाइल नंबर एंटर करना होता है और उसके बाद फोन पर एक ओटीपी आता है, जिसे एंटर करने के बाद साइन इन कर सकते हैं। जबकि ट्विटर में लॉगइन करने के लिए जीमेल आईडी की जरूरत पड़ती है।