धरने के बाद राहुल गांधी को प्रशासन ने लखीमपुर जाने की दी हरी झंडी, बोले- ये देख लीजिए यूपी सरकार की परमिशन

काफी ड्रामे के बाद यूपी प्रशासन ने राहुल गांधी को लखीमपुर जाने की इजाजत दे दी। लखीमपुर हिंसा में मारे गए किसानों के परिवारों से मिलने के लिए राहुल गांधी अन्य कांग्रेस नेताओं के साथ जब लखनऊ पहुंचे तो उन्हें एयरपोर्ट पर ही रोक दिया गया था। जिसके बाद वो धरने पर बैठ गए थे।

rahul gandhi, lakhimpur kheri, farmer protest, UP govt, priyanka gandhi कांग्रेस नेताओं के साथ धरने पर बैठे राहुल गांधी (फोटो- @srinivasiyc)

लखीमपुर खीरी हिंसा पर कांग्रेस पूरी तरह से मोदी-योगी सरकार पर आक्रमक रूख अपनाए हुए है। घटना के अगले दिन ही प्रियंका गांधी लखीमपुर के लिए निकलीं थी, जिन्हें यूपी सरकार ने गिरफ्तार कर लिया था। इसके बाद बुधवार को राहुल गांधी लखीमपुर जाने के लिए दिल्ली से निकले हैं।

कांग्रेस नेता राहुल गांधी को यूपी सरकार ने लखीमपुर जाने की परमिशन भी दे दी थी, लेकिन जब राहुल गांधी, पंजाब के सीएम चरणजीत सिंह चन्नी और छत्तीसगढ़ के सीएम भूपेश बघेल के साथ लखनऊ एयरपोर्ट पहुंचे, तो यूपी पुलिस ने उन्हें एयरपोर्ट पर ही रोक दिया। जिसके बाद राहुल गांधी ने कहा कि देख लीजिए यूपी सरकार की परमिशन। यहीं पर राहुल गांधी धरने पर भी बैठ गए। जिसके बाद उन्हें जाने की अनुमति मिल गई।

राहुल गांधी ने एयरपोर्ट पर रोके जाने के बाद मीडिया से बात करते हुए कहा कि “यूपी सरकार ने मुझे किस तरह की अनुमति दी है? ये लोग मुझे एयरपोर्ट से बाहर नहीं जाने दे रहे हैं।”

राहुल गांधी ने प्रशासन से सवाल करते हुए कहा कि आप किस नियम के तहत तय कर रहे हैं कि मैं कैसे जाऊंगा? बस मुझे नियम बताओ। मामले को आगे बढ़ता देख प्रशासन ने आखिरकार राहुल गांधी को लखीमपुर जाने की इजाजत दे दी। प्रशासन ने राहुल गांधी को पहले निजी गाड़ी से जाने से रोक दिया था, धरने के बाद उन्होंने राहुल गांधी को निजी गाड़ी से जाने की परमिशन दे दी।

राहुल गांधी के साथ पांच सदस्यों के कांग्रेस डेलिगेशन को भी जाने की इजाजत मिल गई है। राहुल पहले सीतापुर जाएंगे, जहां वो प्रियंका गांधी से मिलेंगे फिर वहां से लखीमपुर खीरी के लिए निकल जाएंगे। जहां वो मारे गए किसानों के परिवारों से मुलाकात करेंगे।

एयरपोर्ट पर रोके जाने और फिर जाने की परमिशन मिलने पर कांग्रेस नेता श्रीनिवास बीवी ने ट्वीट कर योगी सरकार पर निशाना साधा। उन्होंने कहा- पहले लखनऊ आने से रोका, फिर परमिशन दी, फिर लखनऊ एयरपोर्ट के बाहर निकलने से रोका, फिर अपनी गाड़ी से जाने की परमिशन दी”।

बता दें कि लखीमपुर खीरी हिंसा में केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा के बेटे आशीष मिश्रा पर किसान संगठनों ने आरोप लगाया है कि उनकी गाड़ी किसानों को रौंदती हुई निकल गई थी। जिसनें चार किसानों की मौत गई, जबकि कई घायल हो गए हैं। इस घटना का वीडियो भी वायरल हो रहा है। किसान आशीष मिश्रा की गिरफ्तारी की मांग कर रहे हैं।