नई जिम्मेदारीः ”एनकाउंटर स्पेशलिस्ट” दया नायक का गोंडिया ट्रांसफर, कभी बिना हथियारों के नहीं निकलते थे बाहर

नायक को दर्जनों कथित अपराधियों को ”मुठभेड़” में मार गिराने के लिए जाना जाता है।

Daya Nayak, Mumbai, Maharashtra

”मुठभेड़ विशेषज्ञ” के तौर पर मशहूर पुलिस अधिकारी दया नायक का बृहस्पतिवार को पूर्वी महाराष्ट्र के गोंडिया जिले में तबादला कर दिया गया जबकि एक अन्य अधिकारी राजकुमार कोठमिरे को गढ़चिरौली भेजा गया है।

अधिकारियों ने कहा कि राज्य के पुलिस मुख्यालय ने दोनों अधिकारियों के तबादले का आदेश जारी किया है। अधिकारी ने कहा कि उनका गोंडिया जिले में तबादला कर दिया है, जहां वह जाति प्रमाणपत्र सत्यापन समिति से जुड़ेंगे। फिलहाल ठाणे पुलिस के रंगदारी-रोधी प्रकोष्ठ में तैनात कोठमिरे को विदर्भ के नक्सल प्रभावित जिले गढ़चिरौली भेज दिया गया है, जहां वह पुलिस उपमहानिरीक्षक रेंज में रीडर के तौर पर काम करेंगे।

राज्य कैडर के 1995 बैच के अधिकारी नायक अब तक मुंबई में महाराष्ट्र एटीएस (आतंकवाद रोधी दस्ते) में तैनात थे और उपनगरीय जुहू में स्थित बल की विशेष इकाई का नेतृत्व कर रहे थे। नायक को दर्जनों कथित अपराधियों को ”मुठभेड़” में मार गिराने के लिए जाना जाता है।

Daya Nayak

Daya Nayak

जान के खतरे की वजह से दया कभी बिना हथियारों के घर से बाहर नहीं निकला करते थे। यह बात उन्होंने अंग्रेजी समाचार चैनल NDTV के शो ‘वॉक दि टॉक’ के दौरान वरिष्ठ पत्रकार शेखर गुप्ता को बताई थी। दरअसल, गुप्ता ने पूछा था, “क्या आप लोग निजी जीवन में बगैर हथियारों के घर से बाहर निकलते हैं?” नायक ने जवाब दिया था, “नहीं। कभी नहीं।”

“ऐसा कब से है?” यह पूछे जाने पर उन्होंने और उनके एक साथी ने बताया कि जब से यह सब (एनकाउंटर्स की शुरुआत) शुरू हुआ, तभी से ऐसा है। बातचीत आधारित यह कार्यक्रम 2003 में प्रसारित हुआ था।

वैसे, दया का अपराधियों और उनके एनकाउंटर्स के अलावा विवादों से भी पुराना नाता रहा है। आय से अधिक संपत्ति के भी उन पर आरोप लग चुके हैं। इस बारे में उन्होंने समाचार चैनल ABP News (तब Star News) के संवाददाता ने पूछा था, “आप सब इंस्पेक्टर रहे हैं। इतनी संपत्ति कैसे आ सकती है? एंटी करप्शन ब्यूरो का कहना है कि 41 लाख रुपए आपके पास हैं?” दया बोले थे, इसमें छह लाख 61 हजार रुपए मेरे हैं। बाकी मेरी बीवी के हैं। वह 1989 से काम कर रही है। वह इकनॉमिक्स में बीए है। (पीटीआई-भाषा इनपुट्स के साथ)