नहीं रहे विनोद दुआ, आखिरी विडियो में क्या कहा था सुनें

वीडियो में दुआ कहते दिख रहे हैं कि जब से प्रधान सेवक (पीएम मोदी) को बांग्लादेश में कहते सुना कि उनका भी वहां की आजादी की लड़ाई में योगदान था। बकौल दुआ- वह सोच रहे थे कि इस हालत में तो प्रधान सेवक को बख्श दो। ठीक होकर उनके बारे में बात कर लेना।

Vinod Dua, Journalist, Dua is no more, last video, Delhi News, Mallika Dua वरिष्ठ पत्रकार विनोद दुआ। (फोटोः ट्विटर@iChiragJha)

वरिष्ठ पत्रकार विनोद दुआ का दिल्ली में निधन हो गया। उनकी बेटी मल्लिका ने इंस्टाग्राम पर इसकी पुष्टि की है। उनका अंतिम संस्कार कल लोधी श्मशान घाट में होगा। बेटी मल्लिका दुआ ने अपने पिता की एक तस्वीर साझा की और लिखा, हमारे निडर और असाधारण पिता, विनोद दुआ का निधन हो गया है। उन्होंने एक अद्वितीय जीवन जिया। दिल्ली की शरणार्थी कॉलोनियों से 42 वर्षों तक वह पत्रकारिता की उत्कृष्टता के शिखर तक बढ़ाते हुए हमेशा सच बोलते रहे। वह अब मेरी मां, उनकी प्यारी पत्नी चिन्ना के साथ स्वर्ग में हैं। वो एक दूसरे के साथ गाना, खाना बनाना, यात्रा करना एक-दूसरे के लिए जारी रखेंगे।

कुछ अर्सा पहले ही 67 वर्षीय दुआ को अस्पताल में भर्ती कराया गया था। इस साल की शुरुआत में उन्हें कोरोना संक्रमण भी हुआ था। पिछले हफ्ते जब उन्हें फिर से अस्पताल में भर्ती कराया गया था। उनकी बेटी मल्लिका ने एक स्वास्थ्य अपडेट भी शेयर किया था। हालांकि उनकी हालत गंभीर बताई जा रही थी। लेकिन चिकित्सकों का कहना था कि सुधार भी दिख रहा है। शनिवार शाम अचानक उनके निधन की खबर ने सभी को स्तब्ध करके रख दिया। बेटी ने अपनी पोस्ट में इसकी पुष्टि की।

वीडियो में दुआ कहते दिख रहे हैं कि जब से प्रधान सेवक (पीएम मोदी) को बांग्लादेश में कहते सुना कि उनका भी वहां की आजादी की लड़ाई में योगदान था। बकौल दुआ- वह सोच रहे थे कि इस हालत में तो प्रधान सेवक को बख्श दो। ठीक होकर उनके बारे में बात कर लेना। वह इसमें कहते हैं कि 22 दिन से लगातार उन्हें हल्का बुखार है। इसी वजह से वो विनोद दुआ शो नहीं कर पा रहे। एक बार ठीक हो जाएं फिर प्रधान सेवक से अपने रिश्ते के बारे में खुलकर बात करेंगे। तब तक उन्हें दुआएं दें। ये उनका आखिरी वीडियो बताया जा रहा है।