नारायण राणे की गिरफ्तारी पर बोले नड्डा तो मृणाल पांडे ने कर दी भीष्म पितामह से तुलना

राणे ने दावा किया था कि स्वतंत्रता दिवस के मौके पर अपने संबोधन के दौरान ठाकरे यह भूल गए कि देश की आजादी को कितने साल हुए हैं। उन्होंने कहा था, ‘‘ अगर मैं वहां होता तो उन्हें एक जोरदार थप्पड़ मारता।

jp nadda, bjp भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा, फोटो- एक्सप्रेस आर्काइव

लेखिका और पत्रकार मृणाल पांडे ने बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा पर उनके उस बयान के लिए निशाना साधा है जिसमें जेपी नड्डा ने कहा था कि केंद्रीय मंत्री नारायण राणे की गिरफ्तारी संविधान के मूल्यों का उल्लंघन है। जेपी नड्डा ने नारायण राणे की गिरफ्तारी की निंदा की थी। बीजेपी अध्यक्ष के बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए मृणाल पांडे ने ट्वीट किया, ‘जब भीष्म अंत समय पांडवों को नैतिक उपदेश दे रहे थे तो द्रौपदी जोर से हंसी। क्रोधी भीम को रोक कर युधिष्ठिर ने उससे वजह पूछी। वह बोली मैं सोच रही थी कि पितामह का यह सारा ज्ञान तब कहां था, जब बालों से घसीट कर लाई गई इनकी कुलवधू को भरी सभा में इनके वंशधर बार-बार अपमानित कर रहे थे ?’

बता दें कि महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के खिलाफ कथित आपत्तिजनक टिप्पणी करने के मामले में नासिक पुलिस ने केन्द्रीय मंत्री नारायण राणे को नोटिस जारी कर उन्हें दो सितम्बर को पूछताछ के लिए पेश होने का निर्देश दिया है। राणे के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज होने के बाद पुलिस ने उन्हें नोटिस भेजा है। एक अधिकारी ने बुधवार को बताया कि नोटिस के अनुसार, राणे को दो सितम्बर को दोपहर 12 बजे नासिक शहर के साइबर पुलिस थाने में जांच अधिकारी-पुलिस निरीक्षक आनंद वाघ के समक्ष उपस्थित रहने का निर्देश दिया गया है।

उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री ठाकरे के खिलाफ कथित टिप्पणी करने के मामले राणे के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 500, 505, 153 (बी)(सी) के तहत प्राथमिकी दर्ज की गई थी। नोटिस में कहा गया ‘‘ ऐसा पाया गया है कि वर्तमान जांच के संबंध में तथ्यों तथा परिस्थितियों का पता लगाने के लिए आपसे पूछताछ के लिए उचित आधार मौजूद हैं।’’

अधिकारी ने बताया कि दण्ड प्रक्रिया संहिता (सीआरपीसी) की धारा 41 के तहत नोटिस जारी किया गया है। नोटिस के तहत राणे को भविष्य में कोई अपराध नहीं करने और मामले से जुड़े सबूतों के साथ किसी भी तरह से छेड़छाड़ नहीं करने का निर्देश दिया गया है। राणे को जरूरत पड़ने पर जांच में शामिल होने और मामले की जांच में सहयोग करने का भी निर्देश दिया गया है।

नासिक के पुलिस आयुक्त दीपक पांडे ने पत्रकारों से कहा कि केन्द्रीय मंत्री ने मामले के संबंध में अपना बयान दर्ज करने की मांग वाले नोटिस को स्वीकार कर लिया है। उन्होंने कहा कि राणे जांच में सहयोग कर रहे हैं और उन्होंने भविष्य में ऐसा अपराध नहीं करने का लिखित में आश्वासन दिया है। इसलिए उन्हें गिरफ्तार करने की आवश्यकता नहीं है और पुलिस ने केवल नोटिस भेजा है।

पांडे ने मंगलवार को राणे की गिरफ्तारी के लिए दिए अपने आदेश का भी बचाव किया। उन्होंने कहा, ‘‘ मुझे लगता है कि मेरे आदेश निष्पक्ष एवं न्यायपूर्ण थे।’’ गौरतलब है कि महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के खिलाफ कथित तौर पर आपत्तिजनक टिप्पणी करने के मामले में महाराष्ट्र के रत्नागिरी जिले से मंगलवार को दोपहर में राणे को गिरफ्तार किया गया था। रायगढ़ जिले के महाड की एक अदालत ने उन्हें मंगलवार रात जमानत दे दी थी।

नासिक पुलिस हालांकि मंगलवार को राणे को हिरासत में लेने के लिए रवाना हुई थी। वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बाद में कहा कि महाड अदालत के जमानत के आदेश के बाद अब वह राणे को गिरफ्तार नहीं करेगी।

इस मामले में राणे के खिलाफ महाराष्ट्र में चार थानों में प्राथमिकी दर्ज की गई है, जिससे मंगलवार को राज्य में राजनीतिक माहौल गर्म हो गया था। राणे ने दावा किया था कि स्वतंत्रता दिवस के मौके पर अपने संबोधन के दौरान ठाकरे यह भूल गए कि देश की आजादी को कितने साल हुए हैं। उन्होंने कहा था, ‘‘ अगर मैं वहां होता तो उन्हें एक जोरदार थप्पड़ मारता। ’’