नीरज चोपड़ा का रोल करने वाले को उठानी पड़ेगी यह परेशानी, बॉयो-पिक से जुड़े सवाल पर ओलंपिक गोल्ड मेडलिस्ट ने बताया सच; देखें Video

यदि आज के हीरो हों तो कौन के सवाल दोहराने पर, नीरज चोपड़ा ने कहा, ‘मुझे लगता है कि जैवलिन एक ऐसा इवेंट है, जो बहुत ही टेक्निकल और बहुत ही फिलैक्सिबिलिटी का स्पोर्ट्स है। उसके लिए तो मुझे लगता है कि आपको एक साल तक उसकी टेक्निक समझने में लग जाएगा।’

NEERAJ CHOPRA BIO PIC Actor who plays Olympic gold medalist नीरज चोपड़ा ने यह पोस्ट इंस्टाग्राम पर 15 अगस्त को शेयर की थी। इसके कैप्शन में उन्होंने बताया कि मई 2019 से लेकर यहां तक का सफर आप सभी के सहयोग से बड़ा ही यादगार रहा है।

टोक्यो ओलंपिक में स्वर्ण पदक जीतने के बाद नीरज चोपड़ा का नाम देश के हर खेल प्रेमी की जुबां पर चढ़ गया है। जगह-जगह उनके सम्मान समारोह हो रहे हैं। सेलिब्रिटीज उनकी तारीफों में कसीदे गढ़ रहे हैं। इसके साथ ही उनकी बॉयो-पिक को लेकर भी चर्चा शुरू हो गई है। पहले खबरें आईं थीं कि वह अक्षय कुमार को अपना किरदार निभाते हुए देखना चाहते हैं, लेकिन एक टीवी चैनल को दिए इंटरव्यू में सब कुछ साफ कर दिया है।

साथ ही इस सच्चाई से भी रूबरू कराया कि उनकी बॉयो-पिक में अभिनय करने वाले एक्टर को किन-किन परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। यदि आपकी बॉयो-पिक बनी तो किस हीरो को नीरज चोपड़ा बनना चाहिए, के सवाल पर नीरज चोपड़ा ने कहा, ‘वह तो उसी टाइम पता लगेगा।’ उनका इशारा था कि अभी उनकी बॉयो-पिक बनने का समय नहीं है। इसके लिए 10-15 साल इंतजार करना पड़ेगा। 15 साल बाद ही सही यदि बॉयो-पिक बनी तो कौन हीरो होना चाहिए, के सवाल पर नीरज बोले, ‘15 साल बाद क्या पता कोई और नया फिट..।’

यदि आज के हीरो हों तो कौन के सवाल दोहराने पर, नीरज चोपड़ा ने कहा, ‘मुझे लगता है कि जैवलिन एक ऐसा इवेंट है, जो बहुत ही टेक्निकल और बहुत ही फिलैक्सिबिलिटी का स्पोर्ट्स है। उसके लिए तो मुझे लगता है कि आपको एक साल तक उसकी टेक्निक समझने में लग जाएगा।’

उन्होंने कहा, ‘थ्रो करने का भी एक तरीका होता है। उसमें तीन ग्रिप होती है। मैं दोनों अंगुली और तीसरी अंगुली पीछे करके ग्रिप बनाता हूं। इसलिए मैं कह रहा हूं कि बॉयो-पिक में अभिनय करने वाले एक्टर को बहुत सीखना पड़ेगा। देखते हैं…।’

अपनी बॉयो-पिक में नीरज क्या खुद अभिनय करेंगे, के सवाल पर ओलंपिक गोल्ड मेडलिस्ट ने कहा, ‘मेरी एक्टिंग तो बढ़िया नहीं है।’ किसी एक्टर को जैवलिन सीखने में जितना समय लगेगा उससे कम समय में आप एक्टिंग सीख लेंगे? इस पर चोपड़ा ने कहा, ‘वह तो पता नहीं, लेकिन मेरी एक्टिंग बहुत खराब है। अब तक तो मैंने ट्राई किया नहीं। मैंने जब भी थोड़ा बहुत करने की कोशिश की तो मेरा अभिनय बहुत खराब ही रहा।’

खिलाड़ियों के साथ प्रशिक्षण शिविर में तो नीरज बहुत मसखरापन करते हैं, की बात कहने पर स्टार जैवलिन थ्रोअर ने कहा, ‘नहीं, नहीं, मैं प्रैंक्स नहीं करता। आपस में तो मजाक चलता है। जिनके साथ अच्छे से रहते हैं। उनके साथ ही ऐसा चलता है। ओपन में कभी ऐसे कुछ नहीं किया।’