पंजाब की पॉलिटिक्स में प्रशांत किशोर की एंट्री, CM ने खुद बताया- संभालेंगे यह अहम पद

2017 में पंजाब विधानसभा चुनाव में कांग्रेस को बड़ी जीत दिलाने के चार साल बाद चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर की पंजाब में फिर से वापसी हो रही है।

punjab, congress

2017 में पंजाब विधानसभा चुनाव में कांग्रेस को बड़ी जीत दिलाने के चार साल बाद चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर की पंजाब में फिर से वापसी हो रही है। मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने किशोर को अपना “प्रमुख सलाहकार” नियुक्त किया है। सीएम अमरिंदर सिंह ने कहा कि वे प्रशांत किशोर के साथ मिलकर पंजाब के लोगों की बेहतरी के लिए काम करेंगे। सीएम ने ट्वीट किया,”यह बताने में खुशी हो रही है कि प्रशांत किशोर को मैंने अपने प्रमुख सलाहकार के रूप में नियुक्त किया है। पंजाब के लोगों की भलाई के लिए हम एक साथ काम करने के लिए तत्पर हैं!”

मामले में प्रशांत किशोर ने मीडिया को बताया कि यह पेशकश पिछले एक साल से उनके पास थी और अमरिंदर सिंह उनके लिए “परिवार की तरह” हैं। किशोर ने कहा कि “मैं उन्हें ‘न’ नहीं कह सकता …।” मुख्यमंत्री कार्यालय ने ट्वीट कर बताया कि प्रशांत किशोर को कैबिनेट मंत्री की रैंक दी गई है। मालूम हो कि पंजाब में 2022 की शुरुआत में विधानसभा चुनाव होने हैं।

पिछले विधानसभा चुनाव में 117 में से कांग्रेस ने 77 सीटें जीती थी। इससे पहले 2012 में पार्टी को 46 सीटें मिली थीं और उसे अकाली दल-भाजपा गठबंधन से हार का मुंह देखना पड़ा था। प्रशांत किशोर और उनकी IPAC ने 2017 की जीत में एक बड़ी भूमिका निभाई थी। युवा मतदाताओं को आकर्षित करने के लिए ‘कॉफी विद कैप्टन ‘ जैसी चीजों को अभियान में शामिल किया गया था। हालाँकि, 2017 उत्तर प्रदेश चुनाव में कांग्रेस के साथ प्रशांत किशोर के मतभेद थे। जिस चलते उन्होंने पार्टी के विधानसभा चुनाव अभियान से खुद को दूर रखा था।

अगले साल होने वाले चुनाव से पहले पंजाब में कांग्रेस मजबूत स्थिति में दिख रही है। पार्टी ने पिछले महीने की शुरुआत में हुए स्थानीय निकाय चुनावों में सात नगर निगमों में बड़ी जीत दर्ज की। यहां तक कि बठिंडा में भी पार्टी को जीत मिली जो कि अकालियों का गढ़ रहा है। 50 वर्षों में पहली बार कांग्रेस ने नगरपालिका में सत्ता हासिल की है।

सिंह ने कहा कि ये जीत पंजाब में अकालियों, भाजपा और आम आदमी पार्टी को खारिज किए जाने के बारे में बताता है। 2022 के चुनाव को लेकर सीएम को उम्मीद होगी कि प्रशांत किशोर राज्य चुनावों में अपने सफल ट्रैक रिकॉर्ड को दोहरा सकते हैं।