पप्पू था पप्पू रहेगा- मुकेश खन्ना ने राहुल गांधी पर साधा निशाना, बोले- कुछ बोलने से पहले होमवर्क तो कर लो

मुकेश खन्ना ने राहुल गांधी पर निशाना साधते हुए कहा कि कुछ भी बोलने से पहले वो एक बार होमवर्क कर लें। उनका कहना है कि सरकार की 90 प्रतिशत ऊर्जा तो विपक्ष को जवाब देने में ख़त्म हो जाती है।

mukesh khanna, rahul gandhi, mukesh khanna on rahul gandhi

बॉलीवुड अभिनेता और महाभारत फेम एक्टर मुकेश खन्ना ने राहुल गांधी को पप्पू कहकर संबोधित करते हुए उन पर जमकर हमला बोला है। अपने विचारों को खुलकर सोशल मीडिया के जरिए रखने वाले मुकेश खन्ना ने अपने यूट्यूब चैनल, ‘भीष्म इंटरनेशनल’ पर एक वीडियो जारी कर अपनी बात रखी है। उन्होंने कई मुद्दों को लेकर राहुल गांधी और बीजेपी की विपक्षी पार्टियों पर निशाना साधा है।

राहुल गांधी पर निशाना साधते हुए वो बोले, ‘विपक्ष देश की प्रगति में रोड़े अटकाने वाला अंदर का दुश्मन है। ये सिर्फ यही सोचते हैं कि मैं ये स्टैंड लूंगा तो सत्ताधारी सरकार गिर जाएगी, आप इसको क्या कहेंगे? कायर कहूंगा मैं, गद्दार कहूंगा इनको। राजनीति आज कलुषित हो गई है जहां पार्टियां लोकतंत्र के नाम पर पार्टी बनाती है और सरकार बना लेती है।’

मुकेश खन्ना का कहना है कि सरकार की सबसे ज़्यादा ऊर्जा विपक्ष को जवाब देने में ही निकल जाती है और इस तरह वो जनकल्याण के काम नहीं कर पाती। वो बोले, ‘आप जानते हैं कि एक चुनी हुई सरकार को 90% ऊर्जा कहा जाती है- विपक्ष को जवाब देने में। अगर सरकार ने फ्रांस से राफेल खरीदा है तो देश के हित के लिए खरीदा है लेकिन पूरी एनर्जी जाती है, विपक्ष के पप्पू को समझाने के लिए कि यह सौदा ठीक है।’

आपको बता दें कि फ्रांस से राफेल विमान के सौदे में राहुल गांधी ने सरकार पर घोटाले का आरोप लगाया था। उनका कहना था कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस रक्षा सौदे के माध्यम से उद्योगपति अनिल अंबानी को लाभ पहुंचाने की कोशिश की। मुकेश खन्ना ने चीन मामले पर राहुल गांधी के बयान पर भी अपनी टिप्पणी की। उन्होंने अपने वीडियो के माध्यम से कहा कि राहुल गांधी कुछ भी बोलने से पहले थोड़ा होमवर्क तो कर लें।

उन्होंने कहा, ‘अगर चीन के साथ सरकार ने कोई संधि की है तो इसके बीच में भी आपको गड़बड़ दिखता है। क्यों रक्षा मंत्री को समझाना पड़ता है कि हमने जो किया वो ठीक किया।’ राहुल गांधी ने भारत चीन सीमा विवाद पर बोलते हुए प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान कहा था कि प्रधानमंत्री डरपोक हैं और उन्होंने देश की पवित्र जमीन चीन को सौंप दी है। इस मामले पर रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने संसद में बयान दिया था कि पैंगोंग मसले पर भारत चीन के बीच समझौता हो गया है।