पप्पू यादव लॉकडाउन नियम तोड़ने पर अरेस्टः बोले- PM-CM साहब दे दें फांसी, पर बेईमानों को करता रहूंगा बेनकाब; रूड़ी की एंबुलेंस पर दागे थे सवाल

पटना के  आईजी ने पत्रकारों को बताया है कि पुलिस ने कई बार यादव को आगाह किया था। लॉकडाउन के नियमों के उल्लंघन को लेकर उन पर कार्रवाई की गयी है।

TV Debate, Covid-19, BIhar

बिहार में पूर्व सांसद पप्पू यादव को पुलिस ने हिरासत में ले लिया है। उनके ऊपर लॉकडाउन के नियमों के उल्लंघन का आरोप लगाया गया है।पूर्व सांसद के खिलाफ कार्रवाई ऐसे वक्त पर की गई, जब हाल ही में उन्होंने कोरोना संकट के बीच धूल फांक रहीं एंबुलेंस को लेकर मुद्दा बनाते हुए BJP को घेरा था।

पप्पू यादव ने पूरे मामले पर ट्वीट कर कहा है कि मुझे गिरफ्तार कर पटना के गांधी मैदान थाना में लाया गया है। साथ ही एक अन्य ट्वीट में उन्होंने लिखा है कि कोरोना काल में जिंदगियां बचाने के लिए अपनी जान हथेली पर रख जूझना अपराध है, तो हां मैं अपराधी हूं। उन्होंने लिखा कि PM-CM साहब, दे दो फांसी, पर न झुकूंगा-न रुकूंगा, बेइमानों को बेनकाब करता रहूंगा। इधर पटना के आईजी ने पत्रकारों को बताया है कि पुलिस ने कई बार यादव को आगाह किया था। लॉकडाउन के नियमों के उल्लंघन को लेकर उन पर कार्रवाई की गयी है।

पटना पुलिस के सूत्रों के अनुसार डीएम ने अपने मजिस्ट्रेट के जरिए जाप नेता के खिलाफ एफआईआर दर्ज करवाया है। महामारी रोग अधिनियम के तहत उनके खिलाफ मामला दर्ज किया गया है।

पुलिस का कहना है कि यादव बगैर ई पास घूम रहे थे। कोरोना अस्पतालों में जाकर मरीजों से मिल रहे थे। बताते चलें कि इससे पहले मंगलवार सुबह पप्पू यादव की तरफ से कहा गया था कि उन्हें हाउस अरेस्ट कर लिया गया है।

बताते चलें कि जनाधिकार पार्टी के नेता पप्पू यादव कोरोना महामारी में लगातार जनता के बीच काम कर रहे हैं। इस दौरान उन्होंने बिहार और केंद्र सरकार पर जमकर हमला बोला है। कुछ ही दिन पहले उन्होंने बीजेपी सांसद राजीव प्रताप रूढ़ी पर एंबुलेंस को छिपा कर रखने का आरोप लगाया था। जिसके बाद उनके ऊपर छपरा में एंबुलेंस में तोड़फोड़ और धमकी देने के मामले में केस दर्ज की गयी थी। बिहार में बाढ़ के दौरान भी उन्होंने नाव से घूम-घूम कर अपनी टीम के साथ लोगों की खूब मदद की थी।