पर‍िवार के मुख‍िया की मौत पर 30 हजार रुपये देती है सरकार, जान‍िए क्‍या है राष्‍ट्रीय पार‍िवार‍िक लाभ योजना

उत्तरप्रदेश सरकार राष्‍ट्रीय पार‍िवार‍िक लाभ योजना (Rastriya Pariwarik Labh Yojana) के पर‍िवार के मुख‍िया की मौत पर 30 हजार रुपये का मुआवजा देती है। आइए जानते हैं क्या है योजना और किसे मिल सकता है लाभ…

Rastriya Pariwarik Labh Yojana राष्ट्रीय पारिवारिक लाभ योजना (प्रतिकात्मक फोटो)

उत्तरप्रदेश में राष्ट्रीय पारिवारिक लाभ योजना (Rastriya Pariwarik Labh Yojana) के तहत सरकार परिवार की मुखिया की मौत पर 30 हजार रुपये का मुआवजा देती है। इस योजना के जरिए सरकार नागरिकों को और सबल बनाने का प्रयास करती दिख रही है।

उत्तरप्रदेश में इस योजना के अंदर राज्य और ग्रामीण दोनों इलाके आते हैं। पहले इस योजना के तहत लाभर्थियों को 20 हजार रुपये मिलते थे। इसके बाद 2013 में इसके तहत दी जाने वाली धनराशि 30 हजार कर दी गई। राज्य में अगर किसी गरीब परिवार के मुखिया की मृत्यु हो गई हो और उनके घर में कोई कमाने वाला नहीं है तो वो इस योजना के तहत मिलने वाले लाभ के लिए आवेदन कर सकते हैं।

क्या है प्रक्रिया

गरीबी रेखा से नीचे जीवन यापन करने वाला परिवार अपने मुखिया की मौत के बाद राष्ट्रीय पारिवारिक लाभ योजना (Rastriya Pariwarik Labh Yojana) के लिए आवेदन कर सकता है। आवेदनकर्ता का यूपी का नागरिक होना अनिवार्य है। जिनकी मौत हुई है, उनकी उम्र 18 से 60 साल के बीच की होनी चाहिए। शहरी क्षेत्र के लिए आवेदनकर्ता के परिवार की वार्षिक आय 56 हजार 450 रुपये और ग्रामीण इलाके में 46 हजार 80 रुपये से ज्यादा नहीं होना चाहिए। आवेदन मृत्यु की तारीख से एक साल के अंदर करना

जरूरी कागजात

आवेदन करने के लिए आवेदनकर्ता के पास आधार कार्ड होना चाहिए। मुखिया की मौत का डेथ सर्टिफिकेट के साथ-साथ आय प्रमाण पत्र, पहचान प्रमाण पत्र, निवास प्रमाण पत्र, मृत व्यक्ति का आयु प्रमाण पत्र, बैंक अकाउंट, मोबाइल नंबर और पासपोर्ट साइज फोटो भी जरूरी है।

कैसे भरा जाएगा फॉर्म

उत्तरप्रदेश सरकार के परिवार कल्याण मंत्रालय ने 2016 में राष्ट्रीय परिवारिक लाभ योजना ( (Rastriya Pariwarik Labh Yojana) का आवेदन ऑनलाइन माध्यम से करने का आदेश दिया था। जिसके बाद से इसका आवेदन ऑनलाइन ही होता है। सरकार की गाइडलाइन के अनुसार फॉर्म अंग्रेजी में भरा जाता है। फॉर्म भरने के समय राष्ट्रीय स्तर के बैंक के खाते का डिटेल देना होता है। इस योजना के लिए सहकारी बैंक का खाता मान्य नहीं होगा। आय प्रमाण पत्र तहसील से ही बना होना चाहिए। सही महत्वपूर्ण दस्तावेजों को फॉर्म भरते समय ऑनलाइन ही अपलोड करना होगा। इसके अलावा मृत्यु प्रमाण पत्र भी मान्यता प्राप्त अस्पताल, नगर पंचायत या तहसील से ही बना होना चाहिए। फोटो जेपीईजी फॉर्मेट में और कागजात पीडीएफ फॉर्मेट में होना चाहिए। किसी का भी साइज 20 केबी से ज्यादा नहीं होना चाहिए।

आवेदन की हार्ड कॉपी प्रिंट कराकर संबंधित जगह हस्ताक्षर या अंगूठा लगातर तीन दिन के भीतर जिला समाज कल्याण अधिकारी के कार्यालय में जमा करना होगा।

आवेदन कैसे करें

आवेदन करने के लिए परिवार कल्याण मंत्रालय उत्तरप्रदेश की वेबसाइट https://nfbs.upsdc.gov.in/ पर जाना होगा। यहां ‘नया पंजीकरण’ पर क्लिक करें और जरूरी जानकारी कागजात के साथ फॉर्म भर दें। फॉर्म सबमिट करने के बाद अगर आपको अपने आवेदन का स्टेटस देखना है तो फिर से उसी वेबसाइट पर जाएं और ‘आवेदन पत्र की स्थिति’ पर क्लिक करें। मांगी गई जानकारी को भरने के बाद आपके आवेदन का स्टेटस आपके सामने स्क्रीन पर आ जाएगा।

बता दें कि राष्‍ट्रीय पार‍िवार‍िक लाभ योजना (Rastriya Pariwarik Labh Yojana) के तहत आवेदनकर्ता के आवेदन पर 30 दिनों के अंदर ही फैसला हो जाता है और राशि भी लाभर्थी के खाते में आ जाती है। ऑनलाइन आवेदन के 75 दिन बाद कोई भी भुगतान जनपद स्तर पर नहीं हो पाएगा। ऐसे मामलों में जिला अधिकारी, समाज कल्याण विभाग को पूरी स्थिति से अवगत करवाते हैं, वहां से हरी झंडी मिलके के बाद ही कोई राशि भुगतान की जाती है।