पाकिस्तान में बढ़े रेप के मामले, इमरान खान ने लिया दिल्ली का नाम

इमरान खान के बयान की पाकिस्तान के मानवाधिकार आयोग (HRCP) ने निंदा करते हुए कहा, “एक सार्वजनिक नेता की ओर से ऐसा बयान अस्वीकार्य।”

pakistan, Covid-19

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने अपने देश में बढ़ते यौन हिंसा के मामलों के लिए पश्चिमी देशों की संस्कृति को जिम्मेदार ठहराया है। लोगों से दो घंटे लबी चली बातचीत में पीएम इमरान से जब एक दर्शक ने पूछा कि सरकार देश में बढ़ते रेप और यौन हिंसा, खासकर बच्चों के साथ हो रहे ऐसे मामलों पर क्या कर रही है, तो इमरान ने इसके लिए फहाशी (असभ्यता) को इसका जिम्मेदार बताया। इतना ही नहीं उन्होंने नई दिल्ली को रेप की राजधानी तक बता दिया।

इमरान ने इस्लाम में पर्दा की अहमियत पर बात की। साथ ही कहा कि जब वे 70 के दशक में क्रिकेट खेलने ब्रिटेन गए, तब वहां सेक्स, ड्रग्स और रॉक एंड रोल की संस्कृति उभर रही थी, जिससे परिवार सीधे तौर पर प्रभावित हो रहे थे। उन्होंने तलाक के बढ़ते मामलों के पीछे भी समाज में फैली असभ्यता को जिम्मेदार ठहराया और कहा कि ऐसे 70 फीसदी केसों के लिए अशिष्टता जिम्मेदार है।

भारत की फिल्म इंडस्ट्री पर तंज कसते हुए इमरान ने कहा कि अब पड़ोस में भी ऐसा ही हो रहा है, क्योंकि वहां हॉलीवु़ड से प्रेरणा ली जा रही है। दिल्ली अब रेप राजधानी बन चुकी है।

इमरान खान के इस बयान की पाकिस्तान के मानवाधिकार आयोग (HRCP) ने निंदा की। आयोग ने बयान जारी कर कहा, “एक सार्वजनिक नेता की ओर से ऐसा बयान अस्वीकार्य है। इससे न सिर्फ रेप क्यों और कैसे होता है, इस बारे में नेता की चौंकाने वाली अज्ञानता का पता चलता है, बल्कि यह रेप पीड़ितों को ही जुर्म का जिम्मेदार ठहराता है, क्योंकि जैसा की सरकार जानती है, इसके पीड़ित छोटे बच्चों से लेकर ऑनर क्राइम के शिकार भी हो सकते हैं।”

पाकिस्तान के आधिकारिक आंकड़े बताते हैं कि देश में हर दिन 11 रेप की घटनाएं दर्ज होती हैं। जियो न्यूज के मुताबिक, पिछले छह सालों में ही देश भर में 22 हजार रेप केस रिपोर्ट हुए हैं।