पीएम मोदी ने की कांग्रेसी मुख्यमंत्री की तारीफ, बोले- गहलोत को मुझपर यकीन, हम अच्छे दोस्त हैं

पीएम मोदी ने कांग्रेसी सीएम अशोक गहलोत को अच्छा दोस्त बताया है। इस बात की चर्चा राजनीतिक गलियारों में खूब हो रही है।

PM Modi पीएम ने कहा कि सीएम गहलोत ने मुझसे खुले दिल से बात की क्योंकि उन्हें मुझ पर भरोसा है। (फोटो सोर्स- PTI)

राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत को पीएम मोदी ने अपना अच्छा दोस्त बताया है। दरअसल गुरुवार को राजस्थान में 4 मेडिकल कॉलेजों की आधारशिला रखी गई थी, जिसके वर्चुअल समारोह में पीएम मोदी ने ये बात कही।

पीएम मोदी ने कहा कि सीएम गहलोत ने अपने राज्य के लिए विकास कार्यों की एक सूची मेरे सामने रखी। इससे ये पता चलता है कि अलग-अलग राजनीतिक विचारधाराओं के बावजूद वह मुझ पर भरोसा करते हैं। इसके लिए मैं उनका धन्यवाद करता हूं।

पीएम ने कहा कि सीएम गहलोत ने मुझसे खुले दिल से बात की क्योंकि उन्हें मुझ पर भरोसा है। ये दोस्ती और विश्वास ही लोकतंत्र की सबसे बड़ी जीत है। पीएम मोदी ने जब गहलोत के लिए भरोसा जताने वाली बात कही, तो गहलोत भी बिना मुस्कुराए रह नहीं पाए।

इस दौरान हनुमानगढ़, बांसवाड़ा और सिरोही में आधारशिला रखी गई और जयपुर में सेंट्रल इंस्टीट्यूट ऑफ पेट्रोकेमिकल्स इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी का उद्घाटन किया गया।

इससे पहले, गहलोत ने कहा था कि हमारे पास 3 पिछड़े क्षेत्र हैं जिनका नाम प्रतापगढ़, राजसमंद और जालोर है। यहां अभी भी एक मेडिकल कॉलेज नहीं है। आप इन जिलों के लिए नए कॉलेजों पर विचार करें। अगर यहां मेडिकल कॉलेज होंगे तो ये जिले इतिहास रच देंगे।

इसके अलावा गहलोत ने पानी की उपलब्धता की समस्याओं से निपटने के लिए केंद्र से मदद मांगी और बिजली ट्रांसमिशन, सड़क और शिक्षा जैसे बुनियादी ढांचे के लिए वित्तीय मदद की मांग की।

गहलोत ने ये भी कहा कि मैं केंद्र से अपनी देनदारियों को माफ करने का अनुरोध करता हूं।

वहीं वर्चुअल समारोह के दौरान पीएम मोदी ने संबोधन भी दिया। उन्होंने कहा कि कोरोना महामारी ने दुनियाभर के स्वास्थ्य क्षेत्र के बारे में बहुत कुछ सिखाया है। ऐसे में हर देश इस संकट से अपने तरीके से निपट रहा है। भारत ने भी इस दौरान संकल्प लिया है कि हम अपनी ताकत और आत्मनिर्भरता को बढ़ाएंगे।

पीएम ने कहा कि राजस्थान में चार नए मेडिकल कॉलेज के निर्माण कार्य की शुरुआत और जयपुर में इंस्टिट्यूट ऑफ पेट्रोकेमिकल का उद्घाटन इसी दिशा में बढ़ाया गया कदम है।

उन्होंने कहा कि केंद्र ने साल 2014 के बाद से राजस्थान में 23 नए मेडिकल कॉलेजों के लिए स्वीकृति दी थी, जिसमें से 7 ने काम करना शुरू कर दिया है।