पुजारा और रहाणे को इसलिए नहीं बाहर कर सकते विराट कोहली, ये है प्रमुख कारण

इंग्लैंड के खिलाफ पांच मैचों की सीरीज का तीसरा टेस्ट मैच लीड्स में खेला जा रहा है। भारतीय टीम ने पहले दिन शर्मनाक प्रदर्शन किया और पूरी टीम 78 रनों पर सिमट गई। भारत की रीढ़ कहे जाने वाले मध्यक्रम ने एक बार फिर निराश किया। एक बार फिर विराट कोहली, चेतेश्वर पुजारा और अजिंक्य रहाणे नाकाम साबित हुए।

virat-kohli-could-not-drop-pujara-and-rahane-from-team-because-of-this-main-reason-ind-vs-eng-3rd-test-leeds-team-india-all-out-on-78 भारतीय मध्यक्रम की रीढ़ कहे जाने वाले पुजारा, कोहली और रहाणे लगातार फ्लॉप हो रहे हैं (Source: Twitter)

भारत ने इंग्लैंड के खिलाफ लॉर्ड्स टेस्ट मैच में 151 रनों से शानदार जीत दर्ज करने के बाद लीड्स में एक बार फिर शर्मनाक बल्लेबाजी का प्रदर्शन किया है। भारत के लिए मध्यक्रम के बल्लेबाजों का लगातार खराब प्रदर्शन परेशानी का सबब बना हुआ है। वहीं इसी बीच चेतेश्वर पुजारा और अजिंक्य रहाणे को लेकर फिर से सवाल उठने लगे हैं। लेकिन एक ऐसी वजह है जिसके चलते कप्तान विराट कोहली इन दोनों खिलाड़ियों को टीम से बाहर नहीं कर पाएंगे।

दरअसल अगर 2020 के बाद से भारत के इन तीनों प्रमुख बल्लेबाजों के रिकॉर्ड पर नजर डालें तो इन तीनों में सबसे कम औसत भारतीय कप्तान का है। रनों की बात करें तो रन भी सबसे कम विराट कोहली ने ही बनाए हैं । हालांकि उन्होंने कम पारियां खेली हैं लेकिन वे 400 तक नहीं पहुंचे हैं।

क्या कहते हैं आंकड़े ?

अगर आंकड़ों पर नजर डालें तो 2020 के बाद इन तीनों में से चेतेश्वर पुजारा ने सबसे ज्यादा पारियां खेली हैं और सबसे ज्यादा रन भी बनाए हैं। पुजारा ने 23 पारियों में 25.09 की औसत से 552 रन बनाए हैं। वहीं उपकप्तान अजिंक्य रहाणे ने 22 पारी खेलते हुए 25.76 की औसत से 541 रन बनाए हैं।
भारतीय कप्तान विराट कोहली का औसत इन दोनों खिलाड़ियों से कम है। उन्होंने 16 पारियों में 24.18 की औसत से 387 रन ही बनाए हैं। इसके अलावा पिछले 2 साल से भारतीय कप्तान के बल्ले से एक भी शतक नहीं निकला है।

यही कारण हैं कि खुद का प्रदर्शन इन दोनों खिलाड़ियों के मुकाबले खराब होने के चलते कप्तान विराट कोहली चाह कर भी टीम के दो वरिष्ठ खिलाड़ी रहाणे और पुजारा को नहीं बाहर कर सकते हैं।

आपको बता दें कि लीड्स में खेले जा रहे तीसरे टेस्ट मैच के पहले दिन भारतीय टीम महज 78 रनों पर सिमट गई। इन तीनों खिलाड़ियों ने एक बार फिर निराश किया। पुजारा 1, कोहली 7 और रहाणे सिर्फ 18 रन ही बना सके। जवाब में इंग्लैंड की टीम ने 42 रनों की बढ़त बनाते हुए बिना कोई विकेट खोए 120 रन बना लिए हैं।