पोस्‍ट ऑफ‍िस की इन योजनाओं में कमाई के साथ टैक्‍स में भी मिलती है राहत

पोस्‍ट ऑफ‍िस की कई ऐसी बचत योजनाएं हैं, जिसमें आपको टैक्‍स बेनिफ‍िट मिलता है। ऐसे में आज हम आपको ऐसी योजनाओं के बारे में बताने जा रहे हैं, जिसमें आपको कमाई के साथ-साथ टैक्‍स बेनिफ‍िट भी दिया जाता है।

Tax saving post office schemes पोस्‍ट ऑफ‍िस की कई ऐसी बचत योजनाएं हैं, जिसमें आपको टैक्‍स बेनिफ‍िट मिलता है। ( Photo By Indian Express Archive)

पोस्‍ट ऑफ‍िस ने बीते कुछ समय से छोटी बचत योजनाओं की ब्‍याज दरों में किसी तरह का बदलाव नहीं किया है। जबकि उससे पहले ब्‍याज दरों में कटौती की गई थी। यानी इन योजनाओं से होने वाली कमाई कम हुई है। उसके बाद भी एफडी या दूसरी ओर सरकारी योजनाओं के मुकाबले पोस्‍ट ऑफ‍िस की स्‍कीम्‍स में आज भी ज्‍यादा ब्‍याज मिल रहा है। साथ ही टैक्‍स बेनिफ‍िट भी दिए जा रहे हैं।

पोस्‍ट ऑफि‍स की करीब 9 छोटी बचत योजनाएं चलाती हैं जिनमें से अधिकतर में टैक्‍स में बेनिफ‍िट मिलता है। तो कुछ में नहीं। वहीं कुछ ऐसी योजनाएं हैं जिसमें ब्‍याज पर टीडीएस कटता है, लेकिन मैच्‍योरिटी पर मिलने वाली रकम पर किसी तरह का टैक्‍स नहीं काटा जाता है। आइए आपको भी बताते हैं कि पोस्‍ट ऑफ‍िस की इन योजनाओं में किस तरह का टैक्‍स बेनिफ‍िट मिलता है।

पोस्‍ट ऑफ‍िस की किस योजना में मिलता है टैक्‍स बेनिफि‍ट

  • किसान विकास पत्र योजना में आयकर अधिनियम के धारा 80 C के अंतर्गत अधिकतम 150000 रुपए तक के निवेश पर छूट दी गई है।
  • पोस्ट ऑफिस टाइम डिपॉजिट स्‍कीम पर आयकर अधिनियम की धारा 80 सी के अंतर्गत डेढ़ लाख रुपए की प्रति वर्ष टैक्‍स कटौती प्रदान की जाएगी।
  • पोस्ट ऑफिस की पांच रिकरिंग डिपॉजिट अकाउंट योजना के अंतर्गत मिलने वाला ब्याज पूरी तरह से टैक्‍स लगता है।
  • पोस्ट ऑफिस सेविंग्स अकाउंट में आयकर अधिनियम की धारा 80 सी के अंतर्गत अर्जित ब्याज तथा परिपक्वता राशि टैक्‍स फ्री है और डेढ़ लाख रुपए की टैक्‍स कटौती का भी फायदा मिलता है।
  • सीनियर सिटीजन सेविंग स्कीम में धारा 80सी के अंतर्गत 150000 रुपए तक की टैक्‍स छूट तथा ब्याज पर 50000 रुपए तक की टीडीएस रि‍बेट मिलती है।
  • सुकन्या समृद्धि अकाउंट में ब्याज पर 50000 रुपए तक की टैक्‍स छूट दी जाती है।
  • पोस्ट ऑफिस मंथली इनकम स्कीम में के अंतर्गत कोई छूट नहीं है तथा ब्याज भी पूरी तरह से टैक्‍सेबल होता है।
  • नेशनल सेविंग सर्टिफिकेट स्‍कीम में धारा 80 C के अंतर्गत डेढ़ लाख रुपए की कर छूट दी गई है।
  • पब्लिक प्रोविडेंट फंड में ब्याज पर टीडीएस लगता है जबकि मैच्‍योरिटी की रकम पूरी तरह टैक्‍स फ्री होता है।

किस स्‍कीम में मिनिमम और मैक्‍सीमम इंवेस्‍टमेंट

  • पोस्ट ऑफिस सेविंग अकाउंट में आप 500 रुपए की मिनिमम राश‍ि से अपना अकाउंट खुलवा सकते हैं, लेकिन मैक्‍सीमम की कोई लिमिट नहीं है।
  • नेशनल सेविंग रिकरिंग डिपॉजिट अकाउंट में मिनिमम 100 रुपए से शुरूआत कर सकते हैं, लेकिन मैक्‍सीमम लिमि‍ट की कोई सीमा नहीं है।
  • नेशनल सेविंग टाइम डिपॉजिट अकाउंट में मिनिमम 1000 रुपए का निवेश किया जा सकता है, जबकि मैक्‍सीमम की कोई लिमिट नहीं है।
  • नेशनल सेविंग मंथली इनकम अकाउंट में मिनिमम 1000 रुपए से शुरूआत की जा सकती है। जबकि मैक्‍सीमम सिंगल अकाउंट में 450000 रुपए और 900000 रुपए जॉइंट अकाउंट में निवेश किया जा सकता है।
  • सीनियर सिटीजन सेविंग स्कीम अकाउंट में आप सालाना 1000 रुपए का निवेश किया जा सकता है, जबकि मैक्‍सीमम 1500000 रुपए का निवेश किया जा सकता है।
  • पब्लिक प्रोविडेंट फंड अकाउंट में मिनिमम 500 रुपए से शुरूआत की जा सकती है और एक मैक्‍सीमम सालाना 150000 रुपए का निवेश कर सकते हैं।
  • नेशनल सेविंग सर्टिफिकेट अकाउंट 1000 रुपए और मैक्‍सीमम निवेश की कोई सीमा नहीं है।
  • किसान विकास पत्र अकाउंट में आप मिनिमम 1000 रुपए के निवेश से शुरूआत कि‍या जा सकता है, जबकि मैक्‍सीमम सीमा कोई लिमिट नहीं है।
  • सुकन्या समृद्धि अकाउंट में आप मिन‍िमम 250 रुपए का निवेश कर सकते हैं जबकि सालाना 150000 रुपए का मैक्‍सीमम निवेश किया जा सकता है।