प्रियंका गांधी का केंद्र सरकार पर निशाना, पूछा- बिना FIR के हिरासत में कब तक, राहुल गांधी बोले- सच्ची कांग्रेसी है, हार नहीं मानेगी

लखीमपुर खीरी में पीड़ित परिवारों से मिलने जा रही है प्रियंका गांधी को प्रशासन ने हिरासत में रखा है। उन्होंने कहा है कि “जब तक किसानों के पीड़ित परिवारों व अन्य किसानों से मिलने नहीं दिया जाता तबतक अन्न ग्रहण नही करूंगी।”

Rahul Gandhi ,priyanka Gandhi, Congress, Lakhimpur Kheri राहुल गांधी-प्रियंका गांधी(फाइल/फोटो सोर्स:PTI)

लखीमपुर खीरी में हुए हिंसक बवाल में मारे गए किसानों के परिजनों से मुलाकात करने जा रही प्रियंका गांधी को सोमवार को सीतापुर के पास पुलिस ने हिरासत में लिया था। तब से ही प्रियंका गांधी सीतापुर के गेस्ट हाउस में अनशन पर बैठी हुई हैं। इसको लेकर कांग्रेसी कार्यकर्ताओं का गेस्ट हाउस के बाहर प्रदर्शन भी जारी है। वहीं मंगलवार को प्रियंका गांधी ने अपने ट्वीट में एक वीडियो शेयर कर मोदी सरकार से सवाल पूछा है।

प्रियंका ने साधा सरकार पर निशाना: बता दें कि प्रियंका गांधी द्वारा शेयर किए वीडियो में दिखाई दे रहा है कि काफिले की गाड़ियां किसानों को रौंदती हुई निकलती जा रही है। इसपर प्रियंका गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को टैग कर लिखा कि, “मोदी जी आपकी सरकार ने बग़ैर किसी ऑर्डर और FIR के मुझे पिछले 28 घंटे से हिरासत में रखा है। अन्नदाता को कुचल देने वाला ये व्यक्ति अब तक गिरफ़्तार नहीं हुआ। क्यों?”

राहुल ने किया सपोर्ट: वहीं प्रियंका के इस ट्वीट पर उनके भाई और कांग्रेस के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी ने उन्हें सच्ची कांग्रेसी बताते हुए उनका समर्थन किया है। उन्होंने अपने ट्वीट में लिखा कि, “जिसे हिरासत में रखा है, वो डरती नहीं है- सच्ची कांग्रेसी है, हार नहीं मानेगी! सत्याग्रह रुकेगा नहीं।”

हिरासत में प्रियंका ने की सफाई: गौरतलब है कि प्रियंका गांधी हिरासत में लिए जाने के बाद गेस्ट हाउस में सफाई भी करती नजर आई थीं। उनके झाड़ू लगाने का वीडियो सोशल मीडिया पर भी खूब देखा गया। वहीं पीड़ित परिवारों से मिलने को लेकर प्रियंका गांधी ने कहा है कि “जब तक किसानों के पीड़ित परिवारों व अन्य किसानों से मिलने नहीं दिया जाता तबतक अन्न ग्रहण नही करूंगी।”

कई नेताओं ने नहीं मिली इजाजत: बता दें कि रविवार को उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी में हुए हिंसक बवाल के बाद राज्य में सियासी माहौल गरम हो गया है। तमाम राजनीतिक दल पीड़ित परिवारों से मिलने की कोशिश में हैं, प्रशासन ने उन्हें इजाजत नहीं दी। प्रियंका गांधी के अलावा लखीमपुर खीरी जाने वाले अन्य विपक्षी नेताओं में समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव को भी यूपी पुलिस ने उनके घर के बाहर ही रोक लिया था। इसके अलावा यूपी सरकार ने छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और पंजाब के मुख्यमंत्री चन्नी को भी लखनऊ में ना उतरने देने का आदेश सोमवार को जारी किया था।

मंत्री के बेटे पर आरोप: लखीमपुर खीरी में हुई हिंसा के मामले में आरोप केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा के बेटे आशीष मिश्रा पर लगा है। किसानों ने आरोप लगाया है कि शांतिपूर्ण चल रहे प्रदर्शन के बीच आशीष मिश्रा तीन गाड़ियों के साथ आए और किसानों को कुचलते हुए निकल गए।