प्रियंका चतुर्वेदी ने बताई ‘भाजपा के लोकतंत्र’ की परिभाषा, खूब मजे ले रहे सोशल मीडिया यूजर्स

शिवसेना नेता प्रियंका चतुर्वेदी ने लिखा कि पत्रकारों के लिए एफ़आईआर, सामाजिक कार्यकर्ताओं के लिए राजद्रोह, आवाज उठाने वाले छात्रों के लिए जेल, विपक्षी पार्टियों के लिए ईडी-सीबीआई और आन्दोलनकारियों को देश विरोधी टैग देना ही भाजपा के लिए लोकतंत्र है।

priyanka chaturvedi, shivesna, maharashtra

26 जनवरी को दिल्ली में हुई हिंसा के मामले में केंद्र सरकार की सुरक्षा एजेंसियों ने राजनीतिक कार्यकर्ता समेत कई लोगों पर आपराधिक मुकदमा दर्ज किया है। सरकार द्वारा की जा रही कार्यवाही को लेकर शिवसेना नेता और राज्यसभा सांसद प्रियंका चतुर्वेदी ने भाजपा पर जमकर निशाना साधा है। प्रियंका चतुर्वेदी ने ट्विटर पर भाजपा के लोकतंत्र का मतलब बताया है। प्रियंका के इस ट्वीट पर सोशल मीडिया यूजर्स ने भी जमकर मजे लिए।

शिवसेना नेता प्रियंका चतुर्वेदी ने लिखा कि पत्रकारों के लिए एफ़आईआर, सामाजिक कार्यकर्ताओं के लिए राजद्रोह, आवाज उठाने वाले छात्रों के लिए जेल, विपक्षी पार्टियों के लिए ईडी-सीबीआई और आन्दोलनकारियों को देश विरोधी टैग देना ही भाजपा के लिए लोकतंत्र है। प्रियंका के इस ट्वीट पर सोशल मीडिया यूजर्स ने जमकर प्रतिक्रिया दी।

आनंदी नाम के एक यूजर्स ने प्रियंका के ट्वीट का जवाब देते हुए लिखा कि इंक फेंकना, लोगों को धमकाना ही आपके लिए लोकतंत्र का मतलब है। आपके राज्य में कोरोना के केस लगातार बढ़ रहे हैं और वहां दोबारा से लॉकडाउन लगने की संभावना है। इसलिए आप राजनीति के बजाय लोगों को बचाने पर ध्यान दीजिये।

इसके अलावा भूपेन्द्र प्रताप सिंह नाम के एक यूजर ने कबीर की एक पंक्ति को ट्वीट करते हुए लिखा कि आपके और आपकी पार्टी यह लाइन सटीक बैठती है कि बुरा जो देखन मैं चला, बुरा न मिलिया कोय, जो दिल खोजा आपना, मुझसे बुरा न कोय। वहीँ सत्या नाम के एक यूजर ने लिखा कि आपके द्वारा ट्वीट की गयी कौन सी लाइन आपकी पार्टी शिवसेना के लिए सटीक बैठती है।

वहीँ कुछ यूजर्स ने प्रियंका चतुर्वेदी के ट्वीट का समर्थन भी किया। अंजनी कुमार नाम के यूजर ने लिखा कि फासिस्ट इंडिया में आपका स्वागत है। इसके अलावा अमित नाम के एक यूजर ने लिखा कि भाजपा के शासन में विरोध करना मानो गुनाह हो गया है। यहाँ हर किसी को जेल में डाला जा रहा है। यह एक अघोषित आपातकाल की तरह है।