बंगाल में टीएमसी की जीत के बाद बोलीं ममता बनर्जी, जीतने के लिए दंगा भी करवा सकते हैं मोदी, मुझे डर नहीं लगता

ममता बनर्जी ने कहा कि मैंने 51 दिनों तक चुनावी रैलियों को संबोधित किया। इस दौरान मेरे पैर भी टूटे और कष्ट भी झेले, लेकिन जनता का सहयोग और समर्थन मेरे साथ था। कहा कि हमने कभी भी आशा नहीं छोड़ी थी।

west bengal election, nandigram, mamata banerjee, subhendu adhikari, mamata wins

बंगाल में लंबी लड़ाई के बाद शानदार बहुमत के साथ तीसरी बार सीएम बनने जा रहीं टीएमसी सुप्रीमो ममता बनर्जी ने कहा, “पीएम नरेंद्र मोदी जीतने के लिए दंगा भी करवा सकते हैं। हालांकि हमें डर नहीं लगता है।” ममता बनर्जी ने कहा कि सभी दलों की अपनी एक विचारधारा है। और वे इसके हिसाब से आगे बढ़ते हैं। भाजपा के मोदी-शाह की कोई विचारधारा नहीं है। वे सत्ता के लिए कुछ भी कर सकते हैं। वे दंगा भी करवा सकते हैं।

जीत के बाद आजतक इंडिया टूडे से बात करते हुए ममता बनर्जी ने कहा कि मैंने 51 दिनों तक चुनावी रैलियों को संबोधित किया। इस दौरान मेरे पैर भी टूटे और कष्ट भी झेले, लेकिन जनता का सहयोग और समर्थन मेरे साथ था। कहा कि हमने कभी भी आशा नहीं छोड़ी थी। हम जानते थे कि हम जीतेंगे, जनता हमें जिताएगी और हमें समर्थन देगी। कहा कि मैं अपनी सोच और व्यवहार में कोई परिवर्तन नहीं करने जा रही हूं। मैं लड़ती हूं, जूझती हूं और जीतती हूं। यह हमारा हथियार है। इसी के सहारे मैं आगे बढ़ती हूं। मुझे कभी डर नहीं लगा। हमारा स्लोगन रहा है कि हम लड़ेंगे, और मोदी जी को हराएंगे।

सभी अटकलों को धता बताते हुए सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव में जारी मतगणना में शानदार जीत हासिल कर बहुमत का आंकड़ा पार कर चुकी है। यह चुनाव इसलिए भी याद रखा जाएगा कि इसमें प्रचार अभियान के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के बीच जमकर वाकयुद्ध हुआ।

पार्टी को लगभग 48 प्रतिशत मत मिले हैं। उम्मीदवारों के कोविड-19 से पीड़ित होने के बाद दो निर्वाचन क्षेत्रों में मतदान टाल दिया गया था। बनर्जी ने अपने समर्थकों से कहा, “यह बंगाल के लोगों की जीत है।”

हालांकि नंदीग्राम से बनर्जी की खुद की हार की खबर ने उनकी खुशी को थोड़ा कम कर किया। इसको लेकर उनकी पार्टी के लोगों ने कोलकाता में मुख्य चुनाव अधिकारी से मिलकर वहां दोबारा मतगणना कराने की मांग की हैं।