बंद पड़ी एलआईसी को कर सकते हैं दोबारा से शुरू, जानि‍ए किन शर्तों का करना होगा पालन

एलआईसी के अनुसार स्‍पेसिफ‍िक एलिजिबल प्‍लांस को पहले अनपेड प्रीमियम की तारीख से पांच साल के भीतर रिवाइव किया जा सकता है। इसके लिए कुछ नियमों और शर्तों का भी पालन करना होगा। जो पॉलिसी प्रीमियम भुगतान अवधि के दौरान समाप्त हो चुकी हैं और पॉलिसी की अवधि पूरी नहीं हुई है, वे इस अभियान में रिवाइव होने के योग्य हैं।

LIC, lic news, LIC IPO LIC की शेयर बाजार में लिस्टिंग होने वाली है

भारतीय जीवन बीमा निगम यानी एलआईसी ने लैप्‍स्‍ड या यूं कहें बीच में बंद पड़ी पॉलिसी को दोबारा से शुरू करने के लिए दो महीने का एक स्‍पेशल कैंपेन शुरू किया है। जिसकी घोषणा एलआईसी की ओर से सोमवार को की गई है। इस कैंपेन का नाम स्‍पेशल रिवाइवल कैंपेन रखा गया है जोकि 23 अगस्‍त से शुरू होकर 22 अक्‍टूबर 2021 तक चलेगा। एलआई के अनुसार जिसने भी किसी मजबूरी या कारणवश अपनी पॉलिसी को बंद करनी पड़ी है उसे दोबारा से शुरू करवाने के लिए लेट फीस से रियायत भी जा रही रही है।

इस तर‍ह से मिलेगी मदद
एलआईसी के अनुसार स्‍पेसिफ‍िक एलिजिबल प्‍लांस को पहले अनपेड प्रीमियम की तारीख से पांच साल के भीतर रिवाइव किया जा सकता है। इसके लिए कुछ नियमों और शर्तों का भी पालन करना होगा। जो पॉलिसी प्रीमियम भुगतान अवधि के दौरान समाप्त हो चुकी हैं और पॉलिसी की अवधि पूरी नहीं हुई है, वे इस अभियान में रिवाइव होने के योग्य हैं। हालांकि, टर्म एश्योरेंस और हाई रिस्‍क वाली स्‍कीम्‍स को इस कैंपेन से बाहर रखा गया है।

इन पर रियायत नहीं
एलआईसी ने कहा कि मौजूदा परिस्थितियों को देखते हुए, भुगतान किए गए कुल प्रीमियम के आधार पर टर्म एश्योरेंस और हाई रिस्‍क योजनाओं के अलावा अन्य के लिए विलंब शुल्क में रियायतें दी जा रही हैं। चिकित्सा आवश्यकताओं पर कोई रियायत नहीं है। योग्य स्वास्थ्य और सूक्ष्म बीमा योजनाएं भी विलंब शुल्क में रियायत के लिए योग्य हैं।

लेट फीस पर मिलेगी छूट

  • 1 लाख रुपए तक के कुल प्राप्‍त प्रीमियम के लिए विलंब शुल्क में 20 फीसदी की छूट दी जाएगी। हालांकि, रियायत राशि 2,000 रुपए से अधिक नहीं हो सकती है।
  • 1-3 लाख रुपये से कुल प्राप्‍त प्रीमियम के लिए विलंब शुल्क में 25 फीसदी की रियायत की पेशकश की जाएगी। यह छूट 2,500 रुपए से अधिक नहीं होगी।
  • कुल प्राप्त प्रीमियम 3 लाख रुपए से अधिक होने की स्थिति में, विलंब शुल्क में 30 प्रतिशत की छूट की अनुमति है, लेकिन रियायत राशि 3,000 रुपए से अधिक नहीं हो सकती है।

क्‍योंक‍ि मजबूरी के कारण नहीं जमा कर सके थे प्रीमियम
एलआईसी ने कहा कि यह अभियान उन पॉलिसीधारकों के लाभ के लिए शुरू किया गया है जिनकी पॉलिसी समाप्त हो गई थी क्योंकि वे अपरिहार्य परिस्थितियों के कारण समय पर प्रीमियम का भुगतान करने में सक्षम नहीं थे। बीमा कवर को बहाल करने के लिए पुरानी पॉलिसी को पुनर्जीवित करना हमेशा बेहतर होता है।