बठिंडा में 53 साल बाद मिली कांग्रेस को सफलता, पूर्व केंद्रीय मंत्री हरसिमरत कौर नहीं बचा पाईं अपना गढ़

देश में चल रहे किसान आंदोलन के बीच पंजाब में हुए इस चुनाव को काफी अहम माना जा रहा था, अकाली दल और कांग्रेस दोनों ने ही किसान आंदोलन को समर्थन किया है.

Punjab Municipal Election,Punjab Municipal Election Result

Punjab Municipal Election Result 2021: पंजाब में हुए नगर निकाय चुनावों में कांग्रेस ने शानदार जीत दर्ज की है। राज्य में हुए आठ नगर पालिकाओं के चुनाव में से 6 पर पार्टी ने जीत दर्ज की है अन्य जगहों पर अभी मतों की गणना का कार्य जारी है। पार्टी ने बठिंडा नगर निगम में 53 साल के इतिहास में पहली बार जीत दर्ज की है। बठिंडा नगर निगम के 50 सीटों में से 43 पर कांग्रेस ने जीत दर्ज की है। वहीं अकाली दल को महज सात सीटें मिली है। आम आदमी पार्टी अपना खाता भी नहीं खोल पायी है। बठिंडा नगर निगम को अबतक अकाली दल का गढ़ माना जाता रहा था।

पंजाब के वित्त मंत्री मनप्रीत सिंह बादल ने ट्वीट कर बठिंडा के लोगों को बधाई दी है.मनप्रीत सिंह बादल ने लिखा है कि आज इतिहास बना है,बठिंडा को 53 साल में पहली बार कांग्रेस का मेयर मिलेगा! सभी बठिंडा निवासियों को धन्यवाद। इस शानदार जीत के लिए बठिंडा के लोगों को बधाई. सभी कांग्रेस उम्मीदवारों और कार्यकर्ताओं को शुभकामनाएं जिन्‍होंने मेहनत कर इसे संभव बनाया।

बताते चले कि  मेयर की दौड़ में सबसे आगे जगरूप सिंह गिल का नाम सामने आ रहा है। अगर जगरूप सिंह गिल मेयर बनते हैं तो वो बठिंडा के पहले कांग्रेसी मेयर होंगे। बठिंडा क्षेत्र पर पूर्व केंद्रीय मंत्री हरसिमरत बादल कौर की मजबूत पकड़ मानी जाती रही थी, लेकिन चुनाव परिणाम से उन्हें निराशा हाथ लगी है। केंद्र सरकार से समर्थन वापस लेने के बाद अकाली दल के लिए ये पहला चुनाव था जिसमें उसे हार का सामना करना पड़ा है।

पंजाब में बीजेपी ने भी निराशाजनक प्रदर्शन किया है। बीजेपी के लिए  सबसे बेहतर नतीजे पठानकोट से आए हैं। पठानकोट में बीजेपी ने 50 में से 11 सीटों पर जीत दर्ज की है। यहां कांग्रेस को 37 सीटों पर जीत मिली है।अबतक के आंकड़ों के अनुसार कांग्रेस को अबोहर, बटाला, बठिंडा, कपूरथला, होशियारपुर और मोगा में जीत मिल चुकी है. वहीं पठानकोट में कांग्रेस आगे चल रही है।