बाइडेन से मुलाकात में बार-बार गांधी याद आए, किसान से क्रूरता के समय भूल गए थे- बोले पूर्व IAS, कांग्रेस नेता ने भी कसा तंज

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बिडेन और पीएम मोदी की मुलाकात के बीच महात्मा गांधी को याद किया गया। उनकी इस बात पर अब पूर्व आईएएस और कांग्रेस नेता ने ट्वीट किया है।

PM modi and joe biden meeting, PM modi america visit, joe biden meets pm modi, UNGA summit अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन के साथ पीएम मोदी की मुलाकात (फोटो- @PMOIndia)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बीते दिन द्विपक्षीय बैठक के तहत अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडेन से व्हाइट हाउस में मुलाकात की। इस बीच दोनों ने महात्मा गांधी को भी याद किया। अमेरिकी राष्ट्रपति ने महात्मा गांधी को लेकर कहा कि विश्व को आज उनके अहिंसा, सम्मान और सहिष्णुता के संदेश की जितनी जरूरत है, उतनी शायद पहले नहीं थी। वहीं पीएम मोदी ने कहा कि गांधीजी ट्रस्टीशिप की बात करते थे, जो कि आने वाले समय में ग्रह के लिए महत्वपूर्ण अवधारणा होगी। उनकी इस बात को लेकर अब राजनीतिक दिग्गजों सहित पूर्व आईएएस अधिकारी व बॉलीवुड कलाकार भी खूब ट्वीट कर रहे हैं।

पूर्व आईएएस ने पीएम नरेंद्र मोदी पर तंज कसते हुए ट्वीट किया और लिखा, “बिडेन-मोदी मुलाकात खत्म। मोदी जी को महात्मा गांधी बार-बार याद आए। लेकिन किसान के प्रति क्रूरता के समय गांधी जी के इस कथन को भूल गए- ‘कितने भी तानाशाह हुए, कुछ समय के लिए वे अजेय लगते हैं। लेकिन अंत में उनका पतन होता है।”

कांग्रेस नेता श्रीनिवास बीवी ने भी अमेरिकी राष्ट्रपति और पीएम मोदी की मुलाकात के बीच गांधी जी को याद किये जाने पर ट्वीट किया और लिखा, “बिडेन ने मोदी जी को याद दिलाया महात्मा गांधी का पैगाम और सिद्धांत। ‘अहिंसा और सहिष्णुता को याद रखना जरूरी है।”

कांग्रेस नेता सुप्रिया श्रीनेत ने पीएम मोदी और राष्ट्रपति जो बिडेन की मुलाकात पर ट्वीट करते हुए लिखा, “गांधी सत्य हैं, गांधी शास्वस्त हैं, गांधी प्रेम हैं, गांधी अहिंसा हैं। गांधी भारत की पहचान हैं, यह महात्मा गांधी का देश है। आप लाख गोडसे के उपासकों के साथ खड़े रहिए मोदी जी, अंततोगत्वा शरण गांधी की ही लेनी पड़ेगी, जैसे आज अमेरिका में हुआ। भूलिएगा मत।”

बॉलीवुड एक्टर कमाल राशिद खान ने गांधी जी को याद किये जाने पर लिखा, “यूएस के राष्ट्रपति जो बाइडेन ने मोदी जी के सामने कहा कि हमें गांधी जी के बताए रास्तों पर चलना चाहिए और मोदी जी ऊपर से नीचे तक देख रहे थे, क्योंकि आरएसएस तो बापू गांधी जी से नफरत करता है।”

राजनैतिक दिग्गजों के अलावा सोशल मीडिया यूजर भी इस मामले पर खूब ट्वीट कर रहे हैं। राजेश नाम के यूजर ने लिखा, “ये अच्छा है कि बाहर के देशों में अभी भी नाम है और रहेगा, वरना यहां तो खत्म ही होता जा रहा है।”

एक यूजर ने लिखा, “मोदी जी ने महात्मा गांधी और नेहरू जी के नाम का प्रयोग क्यों किया, जबकि वह भारत में हुए नुकसान के लिए अकसर नेहरू जी को ही जिम्मेदार मानते हैं।” तो वहीं सुरेश नाम के यूजर ने पीएम मोदी का समर्थन करते हुए लिखा, “गांधी जी साबरमती में जितनी बार गए हैं, उतनी बार कोई भी प्रधानमंत्री नहीं गए हैं।”