बाजारों के नाम बदलने के बाद आप मुस्लिमों का स्वागत कैसे कर सकते हैं? रजत शर्मा ने पूछा था योगी आदित्यनाथ से सवाल तो मिला था ऐसा जवाब

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से एक इंटरव्यू में बाजारों के नाम बदलने को लेकर सवाल किया गया था। इसके जवाब में उन्होंने कुछ ऐसा कहा था।

Uttar Pradesh, Yogi Adityanath उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (एक्सप्रेस फाइल फोटो)

उत्तर प्रदेश में होने जा रहे चुनाव को देखते हुए सियासी घमासान शुरू हो गया है। बीजेपी के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ प्रचार कर रहे हैं। गृह मंत्री अमित शाह ने साफ कर दिया है कि अगर यूपी में बीजेपी को बहुमत मिलता है तो सीएम योगी ही बनेंगे। हाल ही में एक रैली के दौरान योगी आदित्यनाथ ने आजमगढ़ का नाम बदलने के संकेत दिए हैं। योगी ने कहा था, ‘आजमगढ़ का यह विश्‍वविद्यालय सचमुच में आजमगढ़ को आर्यमगढ़ बना ही देगा, इसमें कोई संदेह नहीं होना चाहिए।’

योगी आदित्यनाथ के इस संबोधन के बाद समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने योगी पर निशाना साधा था। उन्होंने कहा था, ‘ये सरकार विकास को पीछे कर रही है। इनका विकास नाम बदलना और रंग बदलना है, जहां भी जाते हैं वहां नाम बदल देते हैं। अच्छा हुआ कि वो चिरगांव नहीं आए, अगर बाबा मुख्यमंत्री यहां आए होते तो हो सकता है कि यहां का भी नया नाम रख देते। आरोप-प्रत्यारोप के बीच योगी आदित्यनाथ का एक पुराना इंटरव्यू वायरल हो रहा है।

वायरल हो रहे इंटरव्यू में योगी आदित्यनाथ से जगहों के नाम बदलने को लेकर सवाल पूछा गया था। वरिष्ठ पत्रकार रजत शर्मा ने सवाल किया था, ‘आप बाजारों के नाम बदल रहे हैं। आप उर्दू बाजार का नाम हिंदी बाजार कर दें। मियां बाजार का नाम बदल दें, मियाँ बाजार का नाम बदल दें। आप फिर कहें कि मुसलमानों का स्वागत है।’ इसके जवाब में उन्होंने मुस्कुराते हुए जवाब दिया था, ‘गोरखपुर में हमने ऐसा करके भी दिखाया है। अगर आज गोरखपुर में हिंदू सुरक्षित है तो मुस्लिम भी सुरक्षित है। नहीं तो माफिया और गुंडे सबसे गुंडा टैक्स लेते थे।’

योगी आदित्यनाथ ने आगे कहा था, ‘अगर ऐसा संभव हो पाया है तो इसके लिए हमने लंबे समय तक काम किया था। वहां का मुसलमान इस बात को अच्छे से जानता है। यही वजह है कि गोरखपुर का हर मुसलमान मुझे समर्थन करने के लिए मजबूर है। वो लोग मुझे डरकर समर्थन नहीं देते हैं। उन लोगों को अच्छी तरह से पता है कि हमारी सुरक्षा सिर्फ मेरे साथ है। मुसलमान अगर मेरा समर्थन करता है तो वो जानता है कि यही एक ऑप्शन की वजह से हम सुरक्षित हैं। मेरे साथ हर जाति के लोग जुड़े हुए हैं। मैं सिर्फ हिंदुत्व की बात करता हूं।’