बिहार की सड़कों पर ‘खूनी खेल’… बेगूसराय में गोलियां बरसाने वाले कौन? 15 घंटे बाद भी सुराग नहीं

बिहार के बेगूसराय में मंगलवार को दो बदमाशों ने दर्जनों जगहों पर ताबड़तोड़ गोलियां बरसा दी. इस फायरिंग में कुल दस लोगों को गोली लगी, जिनमें से एक की मौत हो गई. विपक्ष इस घटना को लेकर नीतीश सरकार को घेर रहा है. उधर पुलिस अब तक खाली हाथ है. अभी तक लोगों पर गोलियां बरसाने वाले दोनों बदमाशों की पहचान नहीं हो पाई है.

दरअसल बिहार में कानून व्यवस्था पर सबसे बड़ा तमाचा उस वक्त पड़ा, जब बेगूसराय में दो बेखौफ बदमाशों ने आतंक मचा दिया. बाइक पर सवार दो बदमाशों ने बेगूसराय में 10 लोगों को गोली मारी. बदमाश हाइवे पर फायरिंग करते गए. इस फायरिंग से पूरा शहर दहशत में है. बदमाशों को पकड़ने के लिए पटना समेत छह जिलों में नाकाबंदी की गई है.

क्या है पूरा मामला?

सीसीटीवी की तस्वीरों में कैद ये वो दो बदमाश हैं, जिन्होंने बिहार के बेगूसराय शहर को मंगलवार की शाम साढ़े पांच बजे दहला दिया. नेशनल हाइवे 28 पर निकले इन बदमाशों ने एक के बाद एक कई जगहों पर ताबड़तोड़ गोलियां चलाई. कुल 10 लोगों को इन बदमाशों ने गोली मारी, जिनमें से एक चंदन कुमार नाम के शख्स की मौत हो गई.
 
एक के बाद एक घायल लोग बेगूसराय के सिविल और निजी अस्पतालों में लाये गये. पूरे शहर में अफरातफरी थी. पुलिस के हाथ पैर फूल गए. फुलवरिया बछवाड़ा, तेघडा और चकिया थाना इलाकों मे फायरिंग की एक के बाद एक खबर आती रही. हाल के महीनों में पहली बार इस तरह सरेआम एक के बाद एक 10 लोगों को गोली मारी गई.

बेगूसराय समेत 6 जिलों में नाकेबंदी

इस घटना के बाद पुलिस ने पूरे शहर को सील कर दिया. एसपी से लेकर आईजी तक सड़कों पर आ गए. पास के जिलों को भी अलर्ट किया गया. कई जगहों पर नाकेबंदी की गई. पुलिस ने ताबड़तोड़ छापे भी मारे, लेकिन बाइक सवार इन बदमाशों तक पुलिस नहीं पहुंच पाई है. पटना, समस्तीपुर, खगडिया, नालंदा, लखीसराय जिलों में नाकेबंदी की गई है.

मृतक चंदन के परिजनों का हंगामा

चंदन कुमार की मौत के बाद उनके परिजनों और स्थानीय लोगों ने बरौनी थाना के पास मोती चौक पर जाम कर दिया. जाम की सूचना पर एसपी योगेंद्र कुमार खुद जामा स्थल पर पहुंचे और आक्रोशित लोगों से मुलाकात कर समझा-बुझाकर मामले को शांत कराया. एसपी योगेंद्र कुमार ने बताया कि दहशत फैलाने के उद्देश्य इस पूरी घटना को अंजाम दिया गया है.

फिलहाल बिहार पुलिस की 3 टीमें बदमाशों की गिरफ्तारी का प्रयास कर रही हैं. एसपी योगेंद्र कुमार ने कहा कि इस घटना में पिस्टल और पिस्तौल का उपयोग किया गया, शुरुआती जांच में दहशत फैलाने के लिए बात सामने आ रही है, 10 लोगों को गोली लगी थी, जिसमें से एक चंदन कुमार की मौत हो गई है जबकि 9 लोगों का इलाज चल रहा है.

बीजेपी ने नीतीश सरकार को घेरा

10 लोगों को गोली मारने की घटना के बाद कानून व्यवस्था पर सवाल उठने लाजमी है. केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने कहा, ‘जब अपराधी बेखौफ हो जाते हैं, तब ऐसी घटनाएं घटती हैं, अपराधियों ने 30 किलोमीटर के दायरे में 10 लोगों के ऊपर फायरिंग की लेकिन पुलिस नहीं पकड़ पाई.’ बीजेपी के दूसरे नेताओं ने भी इस तरह की घटना पर सवाल उठाए.

वहीं, बिहार के पूर्व डिप्टी सीएम सुशील मोदी ने कहा कि बिहार के इतिहास में यह अपने प्रकार की पहली घटना है. खैर बिहार में कानून व्यवस्था पर गाहे बगाहे सवाल उठते रहे हैं लेकिन मंगलवार की घटना बताती है कि सुशासन के दावे वाले सूबे में कानून व्यवस्था पर दावे कितने खोखले हैं. वारदात के 15 घंटे बाद भी पुलिस के हाथ खाली है.