बिहार के बीजेपी विधायक के बिगडे़ बोल, कहा- जिन्हें भारत में डर लग रहा चले जाएं अफगानिस्तान

बीजेपी नेता का कहना है: ‘अफगानिस्तान में तालिबान के आने से भारत पर कोई असर नहीं पड़ेगा लेकिन जिन लोगों को भारत में डर लग रहा है, वह अफगानिस्तान जा सकते हैं। वहां पेट्रोल डीजल के दाम भी कम हैं।’

afghanistan, taliban अफगानिस्तान पर तालिबान के कब्जे के बाद से हालात बदतर हो चले हैं। फोटो- ट्विटर (@yamphoto)

अफगानिस्तान में तालिबान के सत्ता पर काबिज होने के बाद अब हिंदुस्तान में राजनेताओं के बीच जुबानी जंग तेज हो गयी है। नेता तालिबान को लेकर ऐसे बयान दे रहे हैं जिससे विवाद होना तय है। सपा सांसद शफीक उर रहमान के बयान के बाद, मौलाना सज्जाद नोमानी का बयान आया और अब इस सिलसिले में बिहार से बीजेपी विधायक हरिभूषण ठाकुर का नाम जुड़ गया है।

बीजेपी नेता का कहना है: ‘अफगानिस्तान में तालिबान के आने से भारत पर कोई असर नहीं पड़ेगा लेकिन जिन लोगों को भारत में डर लग रहा है, वह अफगानिस्तान जा सकते हैं। वहां पेट्रोल डीजल के दाम भी कम हैं।’ नेता ने कहा, ‘अगर देश में धर्म के आधार पर राजनीति की गयी तो भारत को भी अफगानिस्तान बनते देर नहीं लगेगी। कुछ नेताओं को सिर्फ वोट बैंक नजर आता है।’

मालूम हो कि तालिबान के समर्थन में बयान देने के मामले में समाजवादी पार्टी (सपा) के संभल से सांसद डॉक्टर शफीक उर रहमान बर्क के खिलाफ भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के एक नेता ने मामला दर्ज कराया है। पुलिस अधीक्षक चक्रेश मिश्र ने बुधवार को बताया कि भाजपा के पश्चिमी उत्तर प्रदेश के क्षेत्रीय उपाध्यक्ष राजेश सिंघल ने सपा सांसद बर्क, मोहम्मद मुकीम और चौधरी फैजान पर तालिबान के संबंध में भड़काऊ बयान देने को राजद्रोह बताते हुए मंगलवार को शिकायत दर्ज कराई।

हालांकि, मुकदमा दर्ज होने के बाद बर्क अपने दिए बयान से पलटते हुए नजर आए और उन्होंने बुधवार को कहा कि उनके बयान को तोड़-मरोड़ कर पेश किया गया है। बर्क ने कहा, “मैंने ऐसा कुछ नहीं कहा है ,यह मुझपर गलत इल्जाम है और मैं इस मामले में हिन्दुस्तान की नीतियों के साथ हूं।”

उन्होंने बुधवार को पत्रकारों से कहा, “मैंने ऐसा कोई बयान नहीं दिया यह बिल्कुल गलत है। मुझसे सवाल किया गया तो मैंने कहा तालिबान से मेरा क्या ताल्लुक? मैं इस सिलसिले में कुछ नहीं कह सकता बल्कि जो मेरे मुल्क की नीतियां होंगी, मैं उसके साथ रहूंगा, तालिबान से मेरा कोई वास्ता नहीं। मैं वहां का रहने वाला भी नहीं तो मैं तालिबान के सिलसिले में राय देने वाला कौन होता हूं? मैं क्यों दूं अपनी राय? मेरा यह बयान तोड़-मरोड़ कर पेश किया गया है।”

उन पर दर्ज हुए मुकदमे के सवाल पर सांसद बर्क ने कहा कि ”मुकदमा दर्ज हो तो हो लेकिन मुकदमा तो सच्चाई पर चलेगा। मेरे खिलाफ इल्जाम लगाया जा रहा है। मैंने ऐसा कोई बयान नहीं दिया, मैं न तो तालिबान के साथ हूं, न ही उनकी तारीफ करता हूं, ना उन से मुझे कोई मतलब है । हिंदुस्तान की नीतियों से मुझे मतलब है, मैं हिंदुस्तान के साथ हूं।”