बिहार: मूर्ति विसर्जन करने गए शख्स के मुंह में गोली मारी; सहरसा में आंख में मारी गोली, मौत

पिछले दिनों बिहार विधानसभा में बजट सत्र के दौरान तेजस्वी यादव ने कहा था कि नीतीश सरकार के राज में अपराध 102 प्रतिशत तक बढ़ गया है।

crime, crime news

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार भले ही राज्य में कानून व्यवस्था मुस्तैद होने का दावा करते हों। लेकिन बिहार के अपराधियों की करतूत से नीतीश कुमार का दावा झूठा साबित हो जाता है। एक ही दिन में बिहार में तीन अलग अलग जगहों पर अपराधियों ने बिहार में कानून के राज को धता बता दिया। एक तरफ बिहार के आरा में मूर्ति विसर्जन करने गए शख्स को अपराधियों ने गोली मार दी तो वहीँ सहरसा में बदमाशों ने एक आदमी के आँख में गोली मार दी।

बिहार के सहरसा से एक 22 वर्षीय युवक की हत्या का मामला सामने आया है। अपराधियों ने युवक के सिर और आँख में गोली मार दी। गोली लगने से युवक की मौत मौके पर ही हो गयी। घटना की सूचना मिलते ही स्थानीय पुलिस मौके पर पहुँच गयी और जांच में जुटी हुई है। पुलिस के अनुसार यह सलखुआ थाना क्षेत्र का मामला है और शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है। वहीँ दूसरी घटना आरा जिले में हुई। आरा में मूर्ति विसर्जन के दौरान अपराधियों ने कानून और पुलिस से बेख़ौफ़ होकर एक युवक को गोली मार दी।

जानकारी के अनुसार आरा में हुई घटना में अपराधियों ने युवक के मुंह में गोली में मार दी। युवक को जख्मी हालत में पास के अस्पताल में भर्ती कराया गया है। पुलिस के अनुसार यह घटना बड़हारा थाना के फारना गाँव की है. आरा और सहरसा के अलावा तीसरी घटना वैशाली में हुई। वैशाली के चकमजाहिद महादलित टोले में आपसी विवाद में कुछ लोगों ने एक युवक का गर्दन काट दिया। युवक की हालत नाजुक बताई जा रही है। वैशाली के अस्पताल में भर्ती कराए जाने के बाद डॉक्टरों ने युवक को पीएमसीएच रेफर कर दिया है।

पिछले दिनों बिहार विधानसभा में बजट सत्र के दौरान तेजस्वी यादव ने कहा था कि नीतीश सरकार के राज में अपराध 102 प्रतिशत तक बढ़ गया है। साथ ही उन्होंने यह भी कहा था कि नीतीश सरकार के कार्यकाल में दर्ज केसों की संख्या दो लाख तक हो गयी है। इसके अलावा तेजस्वी ने कहा कि राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो के आंकड़े के अनुसार साल 2000 में बिहार अपराध के मामले में 23 वें नंबर पर था लेकिन 2005 में बिहार का स्थान 26 नंबर पर पहुँच गया था। 

वहीँ पिछले दिनों लोजपा अध्यक्ष चिराग पासवान ने भी बढ़ते अपराध को लेकर नीतीश सरकार पर हमला बोला था। चिराग पासवान ने कहा था कि साल 2005 में नीतीश कुमार जंगलराज का विकल्प लेकर सामने आये थे। लेकिन फिर से लगातार हो रही हत्याओं से यह सिद्ध हो गया है कि राज्य में जंगलराज लौट आया है।