बीजेपी MLA की कार को घेर BKU कार्यकर्ता लगाने लगे ‘वापस जाओ’ के नारे, दिखाए काले झंडे; सुरक्षा को ले जाया गया थाने

किसान नेता जोगिंदर सिंह के नेतृत्व में कार्यकर्ताओं ने केंद्र द्वारा पारित तीन कृषि कानूनों के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया। बाद में खतौली से भाजपा विधायक सिंह को सुरक्षा के लिए जानसठ पुलिस थाने में ले जाया गया।

BJP, Uttar Pradesh, MLA, BKU, Kisan बीजेपी एमएलए विक्रम सिंह का किसानों ने किया विरोध (फाइल फोटो- ट्विटर- @VikramSinghIN)

भारतीय किसान यूनियन (भाकियू) के कार्यकर्ताओं ने रविवार को भारतीय जनता पार्टी की कथित ‘किसान विरोधी नीतियों’ के विरोध में भाजपा विधायक विक्रम सिंह की कार का घेराव किया। भाजपा विधायक जब मीरापुर दलपत गांव बैठक में शामिल होने आए तो भाकियू कार्यकर्ताओं ने ‘‘विक्रम सिंह वापस जाओ’’ जैसे नारे लगाए और उन्हें काले झंडे दिखाए।

किसान नेता जोगिंदर सिंह के नेतृत्व में कार्यकर्ताओं ने केंद्र द्वारा पारित तीन कृषि कानूनों के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया। बाद में खतौली से भाजपा विधायक सिंह को सुरक्षा के लिए जानसठ पुलिस थाने में ले जाया गया। गौरतलब है कि 14 अगस्त को भाकियू समर्थकों ने सिसौली में बुढ़ाना से भाजपा विधायक उमेश मलिक की कार क्षतिग्रस्त कर दी थी।

बताते चलें कि हरियाणा में किसानों पर हुए लाठीचार्ज की घटना के बाद से किसान काफी आक्रोश में हैं। हरियाणा में निकाय और पंचायत चुनावों के मद्देनजर करनाल में शनिवार को एक बैठक का आयोजन किया गया था जिसमें सीएम समेत पार्टी के सांसद और विधायक शामिल हुए। किसान इस आयोजन के विरोध में एकत्रित हुए जिसे देखते हुए सभी रास्ते बंद कर दिए गए। इससे नाराज़ किसानों ने एनएच 44 के बसतांडा टोल प्लाजा पर जाम किया। यही से पुलिस और किसानों में तनातनी शुरू हुई जिसके बाद पुलिस ने लाठीचार्ज कर दिया।

इस लाठीचार्ज में कई किसानों के सिर फूट गए। भारतीय किसान यूनियन ने आरोप लगाया है कि पुलिस ने किसानों पर बर्बरतापूर्ण ढंग से लाठिया बरसाई। राकेश टिकैत ने यह भी कहा है कि ये लाठीचार्ज 5 सितंबर को मुजफ्फरनगर में होने वाली महापंचायत से ध्यान भटकाने के लिए सरकार का एक षड्यंत्र है। राकेश टिकैत ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से रविवार को किए गए एक ट्वीट में एक घायल किसान की तस्वीर शेयर करते हुए लिखा, ‘हरियाणा के मुख्यमंत्री खट्टर का व्यवहार जनरल डायर जैसा है। जो अत्याचार हरियाणा पुलिस ने किसानों पर किया, वह बर्दाश्त नहीं हो सकता। किसान सबका हिसाब करेगा।’