बेटे को कॉलेज में छोड़ने के बाद रोने लगे थे राजकुमार, कुछ इस प्रकार का था एक्टर का व्यवहार; बेटे ने किये खुलासे

राजकुमार के बारे में उनके बेटे ने खुलासा किया कि जब वह अपने बेटे को कॉलेज छोड़ने गए थे तो उन्होंने वहां पर रोना शुरू कर दिया था।

raaj kumar, raj kumar

बॉलीवुड के मशहूर एक्टर राजकुमार ने अपने अंदाज और फिल्मों से लोगों का दिल जीतने में कोई कसर नहीं छोड़ी है। ‘रंगीली’ फिल्म से बॉलीवुड की दुनिया में कदम रखने के बाद राजकुमार ने ‘मदर इंडिया’ जैसी कई फिल्मों में मुख्य भूमिका अदा की थी। राजकुमार के व्यवहार से हर कोई वाकिफ था कि एक्टर के मन में जो आता था, वह लोगों के मुंह पर ही कह दिया करते थे। लेकिन, एक्टर नरम दिल के इंसान भी थे और जब वह अपने बेटे पुरु राजकुमार को कॉलेज छोड़ने गए थे तो काफी भावुक भी हो गए थे।

राजकुमार से जुड़ी इस बात का खुलासा खुद उनके बेटे पुरु राजकुमार ने आईडीवा को दिए इंटरव्यू में किया था। पुरु राजकुमार ने अपने इंटरव्यू में बताया कि भले ही उनके पिता मुंहफट थे, लेकिन वह एक नरम दिल के इंसान भी थे। इस बारे में बात करते हुए पुरु राजकुमार ने कहा, “जब वह यूएस में मुझे कॉलेज छोड़ने आए तो उन्होंने रोना शुरू कर दिया था।”

पुरु राजकुमार ने पिता के बारे में बात करते हुए आगे कहा, “उन्हें रोता हुआ देख मैं यह सोचने लगा कि आखिर उन्हें हो क्या गया है। क्योंकि मैं कभी भी इतनी बड़ी हस्ती को रोते हुए कल्पना भी नहीं कर सकता था।” पुरु राजकुमार ने अपने इंटरव्यू में बताया कि कई बार पिता राजकुमार के साथ उनकी छोटी-मोटी बहस भी हो जाती थी।

पुरु राजकुमार ने इंटरव्यू में इस बात का भी खुलासा किया कि उनके पिता राजकुमार कई बार उन्हें अपनी कार स्कूल छोड़ने जाया करते थे। उन्होंने कहा, “हमारे माता-पिता ने हमें लाड़-प्यार खूब दिया, लेकिन कभी भी हमें बिगाड़ा नहीं। ऐसा बिल्कुल भी नहीं था कि आपको खिलौने की दुकान से हर चीजें मिल सकती थीं।”

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक राजकुमार का व्यवहार भले ही उनके बच्चों की तरफ थोड़ा कड़क था, लेकिन कभी भी उन्होंने बच्चों को ए-ग्रेडर बनने का दबाव नहीं बनाया। पढ़ाई के साथ-साथ वह अपने बच्चों आउटडोर एक्टिविटी में हिस्सा लेने के लिए भी बढ़ावा दिया करते थे।

राजकुमार के बेटे से इतर कई बॉलीवुड कलाकार भी उनके व्यवहार की तारीफें करते नहीं थकते हैं। बॉलीवुड एक्टर सत्यन सप्पू ने उनके बारे में बात करते हुए कहा था कि राजकुमार के व्यवहार में काफी ठहराव था। वह भले ही अपने आप में मगन रहते थे, लेकिन उनके व्यवहार में काफी गहराई थी।