बॉलीवुड में फिल्म निर्माण के लिए गठबंधन करने का बढ़ा जोर

यह संभवतया पहला मौका है जब दो कॉरपोरेट कंपनियों ने गठबंधन करके विभिन्न भाषाओं की फिल्मों में 1000 करोड़ रुपए निवेश करने का विधिवत एलान किया है।

रणवीर सिंह।

यह संभवतया पहला मौका है जब दो कॉरपोरेट कंपनियों ने गठबंधन करके विभिन्न भाषाओं की फिल्मों में 1000 करोड़ रुपए निवेश करने का विधिवत एलान किया है। ये दो कंपनियां हैं टी सीरीज और रिलायंस एंटरटेनमेंट। दोनों कंपनियों ने बयान जारी कर कहा है कि वे आगामी दो से तीन साल में 1000 करोड़ लगा कर हिंदी समेत विभिन्न भाषाओं की लगभग 10 फिल्में बनाएंगे। दोनों कंपनियां इस समय रणवीर सिंह को लेकर ‘सर्कस’ बना रही हैं। इस घोषणा से कश्मकश में फंसे बॉलीवुड को राहत मिली है।

रिलायंस एंटरटेनमेंट और टी सीरीज के गठबंधन की खबर ऐसे दौर में आई है जब बॉलीवुड में फिल्म निर्माताओं का मनोबल गिरा हुआ है। सलमान खान की ‘राधे’, अमिताभ बच्चन की ‘चेहरे’ से लेकर कंगना रनौत की ‘थलैवी’ जैसी फिल्में बॉक्स आॅफिस पर नकार दी गई हैं। आधी क्षमता के साथ चल रहे सिनेमाघरों के कारण टिकट खिड़की से मिलने वाले राजस्व का नुकसान हो रहा है।

बॉलीवुड के निर्माता भी इस कश्मकश में हैं कि फिल्में शुरू करें या नहीं। वे कोरोना महामारी के बाद पैदा हुए हालात के सामान्य होने का इंतजार कर रहे हैं। कई बड़े निर्माताओं ने अपनी फिल्मों की रिलीज रोक रखी है। दूसरी ओरफिल्मों की शूटिंग करना निर्माताओं के लिए काफी परेशानी भरा हो गया है क्योंकि कोरोना नियमों का पालन करना पड़ता है। सौ-सवा सौ लोगों की यूनिट के साथ फूंक-फूंककर काम करना उन्हें जोखिम भरा लग रहा है। कश्मकश में फंसे बॉलीवुड को ऐसी स्थिति में भूषण कुमार और अनिल अंबानी की कंपनी की घोषणा से एक उम्मीद बंधी है।

यह घोषणा फिल्मजगत को आश्वस्त करती है कि अभी सब कुछ खत्म नहीं हुआ है। शो मस्ट गो आॅन। बॉलीवुड हर हालत में चलता रहेगा। टी सीरीज और रिलायंस एंटरटेनमेंट आज चाहे बॉलीवुड की स्थापित कंपनियां हों, मगर ये परंपरागत फिल्म निर्माताओं में शुमार नहीं थीं। रिलायंस एंटरटेनमेंट 2005 से फिल्म निर्माण में उतरी। उसने 2009 में ‘जुरासिक पार्क’ बनाने वाले स्टीवन स्पीलबर्ग के साथ 825 मिलियन डॉलर का संयुक्त उपक्रम शुरू किया। हिंदी, तमिल, तेलुगू, कन्नड़ मलयालम जैसी प्रादेशिक भाषाओं के साथ अंग्रेजी फिल्में बनार्इं। फिल्मों का वितरण शुरू किया। कई देशी-विदेशी कंपनियों की हिस्सेदारी खरीदी। वह इस समय बॉलीवुड की स्थापित कंपनियों में से एक है।

टी सीरीज ने 1990 में पहली बार महेश-मुकेश भट्ट के साथ ‘आशिकी’ बनाई थी, जो हिट रही। टी सीरीज को गुलशन कुमार कभी एक हजार करोड़ की कंपनी बनाने का ख्वाब देखते थे। 1997 में गुलशन कुमार की हत्या हो गई। उनके बेटे भूषण कुमार ने कंपनी की बागडोर संभाली और आज टी सीरीज बॉलीवुड की नंबर वन कंपनी है। इस समय वह 20 के आसपास फिल्मों का निर्माण कर रही है। रिलायंस और टी सीरीज का पहला गठबंधन 2008 में ‘कर्ज’ (हिमेश रेशमिया, उर्मिला मातोंडकर) फिल्म को लेकर हुआ था। इसे टी सीरीज ने बनाया था और रिलायंस एंटरटेनमेंट के साथ कलानिधि मारन की कंपनी सन पिक्चर्स ने रिलीज किया था। इस समय भी रिलायंस एंटरटेनमेंट और टी सीरीज दोनों कंपनियां रणवीर सिंह, जैकलीन फर्नांडीज और पूजा हेगड़े को लेकर ‘सर्कस’ बना रही है, जिसके तीसरे पार्टनर रोहित शेट्टी हैं। एक तरह से बॉलीवुड में गठबंधन का जो दौर चल रहा है, इस घोषणा से उसे एक नया आयाम मिला है।