भाजपा जॉइन करने जा रहे श्रीधरन को आदित्यनाथ ने कर दिया था इग्नोर, लखनऊ मेट्रो के उद्घाटन में सबसे किनारे आए थे नजर

लखनऊ मेट्रो परियोजना का उद्घाटन सीएम योगी आदित्यनाथ, राजनाथ सिंह और उत्तर प्रदेश के राज्यपाल ने किया था.

Lucknow Metro Inaugaration,E Sreedharan,Chief Minister Yogi Adityanath

‘मेट्रो मैन’ के नाम से विख्यात ई श्रीधरन 21 फरवरी को केरल में बीजेपी की सदस्यता लेंगे। बीजेपी की तरफ से कहा गया है कि श्रीधरन 21 फरवरी को विजय यात्रा में भी हिस्सा लेंगे। हालांकि एक ऐसा भी समय आया था जब उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा उन्हें लखनऊ मेट्रो के उद्घाटन समारोह में किनारे कर दिया गया था। 5 अगस्त 2017 को लखनऊ मेट्रो के उद्घाटन समारोह में उन्हें राज्य सरकार की तरफ से अधिक तरजीह नहीं मिली थी।

गौरतलब है कि जब लखनऊ मेट्रो परियोजना की शुरुआत हुई थी तो उस समय उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने व्यक्तिगत रूप से अनुरोध कर श्रीधरन को लखनऊ मेट्रो परियोजना में सलाहकार के रूप में काम करने के लिए तैयार किया था। लेकिन बाद में जब अखिलेश यादव मुख्यमंत्री पद से हटे तो ई श्रीधरन ने स्वास्थ्य कारण बात कर अपने पद से त्यागपत्र दे दिया था। जिसके बाद से योगी आदित्यनाथ और उनके रिश्ते को लेकर कई तरह के चर्चे होने लगे थे।

कौन हैं मेट्रो मैन ई श्रीधरन?

12 जून 1932 को जन्में ई श्रीधरन को देश में सार्वजनिक परिवहन प्रणाली में बदलाव का श्रेय दिया जाता है। उनकी गिनती आधुनिक भारत के श्रेष्ठतम इंजीनियरों में होती है। कोलकाता, दिल्ली, लखनऊ और कोंकण मेट्रो को बनाने में उन्होंने सक्रिय भूमिका अदा की है। श्रीधरन को साल 2005 में फ्रांस सरकार की तरफ से सर्वोच्च नागरिक सम्मान और सैन्य सम्मान लीजन डी ऑनर दिया जा चुका है। 2001 में उन्हें भारत सरकार की तरफ से पद्मश्री और 2008 में पद्मविभूषण से सम्मानित किया गया था।

केरल में बीजेपी के लिए हो सकते हैं उपयोगी

केरल विधानसभा चुनाव से पहले बीजेपी के लिए ये बड़ी सफलता मानी जा सकती है। खबरों के अनुसार श्रीधरन चुनाव लड़ने के लिए भी तैयार है उन्होंने कहा है कि मुझे उम्मीद है कि बीजेपी केरल के लिए कुछ कर सकती है, दूसरे राजनीतिक दलों ने अभी तक कुछ नहीं किया है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लेकर श्रीधरन ने कहा है कि वो दुनिय़ा के सबसे बेहतरीन राष्ट्राध्यक्षों में से एक हैं। देश को जरूरत थी कि उससे किए वादे निभाए जाएं और देश का विकास हो। पीएम मोदी ने दोनों ही काम बेहतरीन ढंग से किया है।