भाजपा सांसद का तंज- भारतीय क्षेत्र को ‘नो मैन्स लैंड’ घोषित कर दिया, अब चीनी कब्जा कर सकते हैं वहां

माना जा रहा है कि हाल के दिनों में सुब्रमण्यम स्वामी सरकार से नाराज चल रहे हैं। उन्होंने सरकार द्वारा दिसंबर में खत्म इस वित्त वर्ष की तीसरी तिमाही के जीडीपी आंकड़ों पर भी सवाल उठाए थे।

subramanian swamy , india , china , farmer protest

बीजेपी सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने चीन के मुद्दे पर एक बार फिर सरकार पर हमला बोला है। राज्यसभा सांसद स्वामी ने ट्वीट कर कहा कि भारतीय क्षेत्र को ‘नो मैन्स लैंड’ घोषित कर दिया, अब चीनी कब्जा कर सकते हैं वहां। इसलिए युद्ध जैसी स्थिति अभी भी बनी हुई है। चीनियों ने चेतावनी जारी की है कि वे हमारी संचार प्रणाली को ध्वस्त करने में सक्षम हैं। क्या यह एक घमंड है?

गौरतलब है कि कि इससे पहले भी उन्होंने चीन को लेकर सरकार की नीतियों पर सवाल खड़ा किया था। उन्होंने कहा था कि जब पीपुल्स लिबरेशन आर्मी भारतीय सीमा में आई ही नहीं थी तो वापस जाने की बात कैसे की जा रही है? उन्होंने ट्वीट किया था कि पहेली को हल करना चाहिए। पहले भारतीय विदेश मंत्रालय द्वारा बयान जारी किया गया था कि भारतीय सीमा में चीन की सेना नहीं घुसी है। लेकिन अब वापसी की बात कैसे की जा रही है। अब उनका कहना है कि यह सरकार की कूटनीतिक और सैन्य जीत है। भारतीय इलाके से चीनी सेना वापस जा रही है। क्या दोनों ही बाते सही है?

बीजेपी सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने लिखा था कि सूत्रों से जानकारी मिली है कि चीन ने ये साफ कर दिया है कि वह देपसांग को खाली नहीं करेगा। चीन का कहना है कि पिछले साल अप्रैल में जो एलएसी पर स्थिति थी उससे अधिक वह खाली करने को तैयार नहीं है।

सरकार से नाराज चल रहे हैं सुब्रमण्यम स्वामी: माना जा रहा है कि हाल के दिनों में सुब्रमण्यम स्वामी सरकार से नाराज चल रहे हैं। उन्होंने सरकार द्वारा दिसंबर में खत्म इस वित्त वर्ष की तीसरी तिमाही के जीडीपी आंकड़ों पर भी सवाल उठाए थे। स्वामी ने कहा था कि कुछ इंडेक्स का सहारा लिया जाए तो जीडीपी मानस 10 से 15 फीसदी हो सकती है।

26 जनवरी की घटना पर भी उठाया था सवाल: सुब्रमण्यम स्वामी ने गणतंत्र दिवस की घटना के बाद कहा था कि इस घटना ने देश की छवि को नुकसान पहुंचाया है। साथ ही उन्होंने कहा था सुरक्षा की दृष्टि से बड़ी चूक हुई है और हो सकता है कि चीन मार्च से मई के दौरान भारत में बड़ी साजिश को अंजाम दे।