भाजपा सांसद ने PMO के अधिकारियों को कहा सनकी, बोले- कोरोना से निपटने को गंभीर टीम की जरूरत

कोरोना महामारी को लेकर भाजपा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी लगातार मोदी सरकार पर हमलावर रहे हैं।

BJP, Subramanian Swami

भारत में कोरोनावायरस के केस लगातार बढ़ते जा रहे हैं। इस बीच विपक्षी दल लगातार महामारी से निपटने की केंद्र सरकार की तैयारियों पर सवाल उठा रहे हैं। इनमें एक नाम खुद भाजपा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी का भी है। स्वामी लगातार कोरोना की स्थितियों को लेकर मोदी सरकार की आलोचना में जुटे हैं। अब उन्होंने पीएमओ अफसरों को कोरोना संकट से निपट पाने में अक्षम करार देते हुए सनकी तक कह दिया है।

क्या बोले सुब्रमण्यम स्वामी?: भाजपा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने ट्वीट कर कहा, “मैंने दो दिन पहले ही चेतावनी देकर कहा था कि कोरोनावायरस की तीसरी लहर बच्चों को निशाना बनाएगी। हमें इस संकट से निपटने के लिए गंभीर प्रबंधन करने वाली टीम चाहिए, जो कि प्रतिक्रिया पर निगरानी रख सके और योजना तैयार कर सके। न कि प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) की सनकी टीम। आज NITI आयोग की टीम ने भी कोरोना की तीसरी लहर के खतरों की पुष्टि कर दी है।”

कोरोना से निपटने गडकरी को मोर्चे पर लगाने के लिए कह चुके हैं स्वामी: गौरतलब है कि सुब्रमण्यम स्वामी इससे पहले पीएम मोदी को सलाह दे चुके हैं कि वे कोरोना से लड़ने का काम नितिन गडकरी को सौंप दें। उन्होंने कहा था कि भारत देश जिस तरह मुस्लिम हमलावरों और ब्रिटिश साम्राज्यवादियों के मुकाबले विजेता होकर उभरा था, हम वैसे ही कोरोनावायरस से भी पार पा लेंगे। इसलिए मोदी को कोरोना के खिलाफ जंग का जिम्मा गडकरी को सौंप देना चाहिए। पीएमओ पर भरोसा करना बेकार है।

चुनाव और कोरोना को लेकर भाजपा पर कस रहे तंज: बता दें कि सुब्रमण्यम स्वामी पिछले कुछ समय से लगातार भाजपा पर ही निशाना साध रहे हैं। उन्होंने हाल ही में पार्टी की बंगाल में हार को लेकर तंज कसा था और पूछा था कि यूपी पंचायत चुनाव के नतीजे आ गए हैं क्या? उनका कहना था कि मीडिया की खामोशी अजीब लग रही है।

इतना ही नहीं कोरोना के मुद्दे पर वे लगातार मोदी सरकार पर हमलावर रुख अपनाए हैं। हाल ही में स्वामी ने बताया था कि पिछले साल स्टैंडिंग कमेटी फॉर हेल्थ ने यह चेताया था कि ऑक्सीजन सिलेंडर और सप्लाई की भारी किल्लत है। सरकार ने उसकी कोई परवाह नहीं की।