भारतीय टीम ने शुरुआत में पिछड़ने के बावजूद U-20 विश्व एथलेटिक्स चैंपियनशिप में कैसे किया कांस्य पदक पर कब्जा, देखें Video

नैरोबी में जारी अंडर-20 विश्व एथलेटिक्स चैंपियनशिप में भी भारतीय एथलीट्स ने शानदार प्रदर्शन किया है। भारत की चार गुणा 400 मीटर मिश्रित रिले की टीम ने बुधवार को कांस्य पदक देश के नाम किया।

indian-sprinters-bags-bronze-medal-in-u-20-world-athletics-championship-after-lacking-behind-initially-watch-video भारतीय टीम ने शुरुआत में पिछड़ने के बावजूद U-20 विश्व एथलेटिक्स चैंपियनशिप में कैसे किया कांस्य पदक पर कब्जा (Source: Twitter)

टोक्यो ओलंपिक में जिस जांबाजी से भारतीय जैवलिन थ्रोअर नीरज चोपड़ा ने भारत को इस इवेंट में इतिहास का पहला मेडल दिलाया है वो भी गोल्ड। उसके बाद से भारत के युवा एथलीट्स भी उनसे काफी हद तक प्रेरित हुए हैं। इसी बीच केन्या के नैरोबी में जारी अंडर-20 विश्व एथलेटिक्स चैंपियनशिप में भी भारतीय एथलीट्स ने शानदार प्रदर्शन किया है। भारत की चार गुणा 400 मीटर मिश्रित रिले की टीम ने बुधवार को कांस्य पदक देश के नाम किया।

आपको बता दें कि ये जीत इतनी आसान नहीं थी। आप वीडियो देखेंगे तो जान जाएंगे शुरुआती हीट में भारतीय धावक चौथे, पांचवें राउंड पर थे। लेकिन इसके बाद भारत ने जो वापसी की है वो एक समय देश की निगाहों को सिल्वर मेडल तक की उम्मीदें दिला चुकी थी। पर इस इवेंट के अंत में भारतीय टीम तीसरे स्थान पर रही और कांस्य पदक अपने नाम किया।

यह अंडर-20 विश्व एथलेटिक्स चैम्पियनशिप के इतिहास में भारत का पांचवां पदक है। भारतीय टीम में भरत एस, प्रिया मोहन, सम्मी और कपिल शामिल थे। भारतीय टीम चैम्पियनशिप के फाइनल में 3:23.60 सेकेंड के समय से तीसरे स्थान पर रही। नाइजीरिया ने 3:19.70 सेकेंड के समय से स्वर्ण और पोलैंड ने 3:19.80 सेकेंड के समय से रजत पदक जीता।

गौरतलब है कि भारत ने सुबह चैम्पियनशिप की हीट में 3:23.36 सेकेंड के रिकार्ड समय से ओवरआल दूसरी सर्वश्रेष्ठ टीम के तौर पर फाइनल में प्रवेश किया था। यह रिकॉर्ड हालांकि ज्यादा देर भारत के नाम नहीं रहा और नाइजीरिया ने दूसरी हीट में 3 : 21 . 66 के टाइमिंग के साथ इसे तोड़ दिया ।

अंतिम समय में बदली गई भारतीय टीम

भारत ने फाइनल में दौड़ने वाली अपनी टीम में आखिरी क्षणों में बदलाव किया। हीट में दौड़ने वाले अब्दुल रज्जाक की जगह भरत ने ली। भरत ने हाल में संगरूर में फेडरेशन पक राष्ट्रीय जूनियर चैंपियनशिप में 47.55 सेकंड का समय लिया था। प्रिया और सम्मी की यह दिन की तीसरी रेस थी। इन दोनों ने व्यक्तिगत 400 मीटर हीट में भी हिस्सा लिया था।

नीरज चोपड़ा से ली प्रेरणा

प्रिया ने फाइनल के बाद कहा, ‘‘हम ओलंपिक भाला फेंक स्वर्ण पदक विजेता नीरज चोपड़ा से प्रेरित थे। हम दुनिया को दिखाना चाहते थे कि ओलंपिक में उनकी जीत तुक्का नहीं थी। यहां हमारी जीत कई भारतीयों को एथलेटिक्स से जुड़ने के लिए प्रेरित करेगी।’’

इस तरह चार गुणा 400 मीटर मिश्रित रिले टीम के कांस्य से पहले अंडर-20 विश्व चैम्पियनशिप में भारत के लिए सीमा अंतिल (चक्का फेंक में कांस्य, 2002), नवजीत कौर ढिल्लों (चक्का फेंक में कांस्य, 2014), ओलंपिक चैम्पियन नीरज चोपड़ा (भालाफेंक में स्वर्ण, 2016), हीमा दास (400 मीटर में स्वर्ण, 2018) ने पदक जीते हैं ।