भारत से लगातार संपर्क में रहेगा अमेरिका : वाइट हाउस

पेंटागन ने कहा कि आगामी हफ्ते में और ऑक्सीजन सिलेंडर के साथ ही ऑक्सीजन सांद्रक, ऑक्सीजन उत्पादन इकाई, अतिरिक्त निजी सुरक्षात्मक उपकरण (पीपीई), त्वरित जांच किट और दवाएं भेजी जाएंगी।

Author भाषा Edited By Sanjay Dubey वाशिंगटन | Updated: May 2, 2021 6:02 AM
US, Biden administration, expels Russian diplomats, imposes sanctions, Russian hacking campaign

अमेरिका कोविड-19 संकट से निपटने और भारत की जरूरतों को जानने के लिए लगातार भारत के साथ संपर्क बनाए रखेगा। देश में अहम अमेरिकी सहायता आपूर्तियों के पहुंचने के शुरू होने के बाद वाइट हाउस ने यह बात कही है। कोरोना वैश्विक महामारी की विध्वंसकारी लहर के खिलाफ जंग में भारत को समर्थन देने के बाइडेन प्रशासन के प्रयासों के तहत दो अमेरिकी सैन्य विमान बड़ी मात्रा में आपातकालीन चिकित्सा आपूर्तियों को लेकर भारत पहुंचे।

आपूर्तियों की पहली खेप अमेरिकी वायु सेना के सबसे बड़े सामरिक विमानों में से एक सी-5 एम सुपर गैलेक्सी दिल्ली पहुंचा जबिक दूसरी खेप सी-17 ग्लोबमास्टर ने पहुंचाई। वाइट हाउस की प्रेस सचिव जेन साकी ने शुक्रवार को संवाददाताओं को बताया कि हम भारत की जरूरतों को लेकर लगातार देश से संपर्क में रहेंगे। इसमें 1,84,000 त्वरित जांच किट और 84,000 एन-95 मास्क भी शामिल हैं।
साकी ने कहा कि विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकेन ने भारतीय सरकार की कार्रवाई के समर्थन में जारी अमेरिका सरकार के प्रयासों की समीक्षा के लिए उनके समकक्ष एस जयशंकर से बात की।

साकी ने कहा, ‘उन्होंने अमेरिकी उद्योगों की तरफ से मिल रहे समर्थनों, हमारी जारी चर्चाओं, गैर सरकारी संस्थानों व निजी नागरिकों के मदद पर भी ध्यान दिलाया।’ कुल मिलाकर, अमेरिका भारत को 10 करोड़ डॉलर से अधिक चिकित्सीय आपूर्तियां करने की उम्मीद कर रहा है।

पेंटागन ने कहा कि आगामी हफ्ते में और ऑक्सीजन सिलेंडर के साथ ही ऑक्सीजन सांद्रक, ऑक्सीजन उत्पादन इकाई, अतिरिक्त निजी सुरक्षात्मक उपकरण (पीपीई), त्वरित जांच किट और दवाएं भेजी जाएंगी।

भारत में कोरोना की स्थिति ‘दुखदायी’, चुनौती का मुकाबला करने में मदद करने का वादा : हैरिस
अमेरिकी उपराष्ट्रपति कमला हैरिस ने भारत में कोरोना संक्रमण की स्थिति को ‘दुखदायी’ बताते हुए कहा है कि अमेरिका ने इस चुनौती का मुकाबला करने में उसकी मदद करने का वादा किया है। हैरिस ने सिनसिनाटी, ओहायो में शुक्रवार को संवाददाताओं से कहा, ‘इसको लेकर कोई सवाल ही नहीं है कि लोगों की जान जाने के संदर्भ में यह बड़ी त्रासदी है। जैसा मैंने पहले भी कहा है, एक बार फिर से कहूंगी कि हमने एक देश के तौर पर भारत के लोगों का समर्थन करने का उनसे वादा किया है।’

हैरिस ने एक सवाल के जवाब में कहा, ‘हमने डॉलर राशि के संदर्भ में वादा किया है, जो पीपीई और अन्य चीजों के मद में जाएगी। लेकिन यह दुखद है। लोग जिस घोर पीड़ा से गुजर रहे हैं, उसमें मेरी प्रार्थना उनके साथ है।’ इससे पहले वाइट हाउस ने कोविड-19 के मामलों में काफी वृद्धि के मद्देनजर भारत से यात्रा पर पाबंदी लगाने की घोषणा की थी। हैरिस ने कहा कि प्रतिबंध की खबर सार्वजनिक होने के बाद से उन्होंने भारत में अपने परिवार से बातचीत नहीं की है।