भूटान: सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ जज और शीर्ष सेना अधिकारी पर ‘साजिश’ रचने का आरोप, हिरासत में लिए गए

भूटान में सुप्रीम कोर्ट के एक वरिष्ठ जज और एक शीर्ष सेना अधिकारी को हिरासत में ले लिया गया है। आरोप है कि इन लोगों ने भूटान के चीफ जस्टिस और आर्मी चीफ को अपदस्थ करने की ”साजिश” रची थी।

Justice Tshering

भूटान में सुप्रीम कोर्ट के एक वरिष्ठ जज और एक शीर्ष सेना अधिकारी को हिरासत में ले लिया गया है। आरोप है कि इन लोगों ने भूटान के चीफ जस्टिस और आर्मी चीफ को अपदस्थ करने की ”साजिश” रची थी। मामले में एक जिला अदालत के जज को भी हिरासत में लिया गया है। भूटान के सरकारी अखबार ,कुएनसेल, के मुताबिक भूटान पुलिस ने बुधवार को सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ जज कुएनले शेरिंग को हिरासत में लिया। साथ ही जिला अदालत के जज येशे दोरजी पर भी ये कार्रवाई की गई।

गौरतलब है कि जस्टिस कुएनले शेरिंग भारत के चीफ जस्टिस एसए बोबडे के शपथ ग्रहण में भी शामिल हुए थे। उन्होंने हाल ही में बताया था कि उन्होंने लॉ की पढ़ाई बॉम्बे यूनिवर्सिटी से की है। सरकारी अखबार ने बताया कि दो जजों की ये गिरफ्तारी ऐसे में हुई है जब एक पूर्व रॉयल बॉर्डी गार्ड कमांडेंट ब्रिगेडियर थिनले तोबग्ये को साजिश रचने के आरोप में हिरासत में लिया गया था। उन पर आर्मी चीफ के खिलाफ साजिश रचने का आरोप है।

रिपोर्ट के मुताबिक,“ इस साजिश का खुलासा एक महिला की गिरफ्तारी के बाद हुआ। जब महिला ने पुलिस के आगे साजिश का भांडाफोड़ किया। सूत्रों की मानें तो ये तीनों आर्मी चीफ, चीफ जस्टिस और अटॉर्नी जनरल बनना चाहते थे।”

द भूटानीज , निजी अखबार, के मुताबिक, “ कल शाम को पुलिस ने सुप्रीम कोर्ट के जज कुएनले शेरिंग और जिला अदालत के जज येशे दोरजी को हिरासत में ले लिया। जज कुएनले को उनके घर से गिरफ्तार किया गया। इससे पहले पूर्व ब्रिगेडियर थिनले तोबग्ये को भी हिरासत में लिया गया था।”

पत्रकार तेंजिंग लामसांग द्वारा लिखी गई रिपोर्ट के मुताबिक तीनों आरोपी आर्मी चीफ को भ्रष्टाचार के मामले में फंसाने की साजिश रच रहे थे। रिपोर्ट के मुताबिक ब्रिगेडियर ने एक महिला की मदद से कुछ दस्तावेज सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ जज तक पहुंचाने की साजिश रची थी। जिससे कि आर्मी चीफ के खिलाफ भ्रष्टाचार की जांच शुरू हो सके।

जिला अदालत के जज मामले में सीधे संलिप्त नहीं थे। लेकिन उनको गिरफ्तार इसलिए किया गया क्योंकि उनको इस बात की जानकारी थी। तीनों आरोपी दोस्त हैं और एक दूसरे को अच्छे से जानते हैं।